Google का नया Reply ऐप, मैसेज भेजने का ऐसिस्टेंट

Web Journalism course

गूगल एक नए ऐप पर काम कर रहा है जिसका नाम Reply रखा गया है. यह गूगल के एक्सपेरिमेंटल डिविजन ने तैयार किया है जिसे Area 120 भी कहा जाता है. यहां तैयार किए गए प्रोडक्ट्स टेस्टिंग के लिए होते हैं और कई बार इन्हें कुछ समय के बाद बंद भी कर दिया जाता है.

Reply ऐप के जरिए व्हाट्सऐप, ट्विटर डायरेक्ट मैसेज, फेसबुक मैसेंजर और दूसरे इंस्टैंट मैसेजिंग ऐप के मैसेजों का रिप्लाई किया जा सकता है. हालांकि यह अभी आधिकारिक तौर पर लॉन्च नहीं किया गया है. आपके मन में एक सवाल होगा, कि जब आप सीधे तौर पर व्हाट्सऐप या मैसेंजर में रिप्लाई कर ही सकते हैं तो गूगल के इस Reply ऐप में क्या है जिसकी वजह से आप इसे यूज करेंगे?

गूगल रिप्लाई आम मैसेंजर से अलग है. यहां आपको प्रेडिक्टिव रिप्लाई मिलते हैं. किसी के मैसेज का क्या रिप्लाई करना है यहां आपको सुझाव भी दिया जाता है. रिप्लाई ऐप पर प्रेडिक्शन और सुझाव आपको आपकी लोकेशन और पहले की गई बातचीत के आधार पर मिलेगा. इसके लिए जाहिर है आपको इस ऐप के लिए अपना लोकेशन और दूसरे परमिशन देने होंगे.

इस ऐप को सेटअप करने के लिए आपको नोटिफिकेशन की भी परमिशन देनी होगी. उदाहरण के तौर पर अगर आपसे किसी ने लोकेशन पूछी और वहां से आने में कितना वक्त लगेगा ये पूछा तो यह ऐप आपको लोकेशन से डेस्टिनेशन तक का टाइम बता देगा. इसके अलावा अगर आप बाइक ड्राइव कर रहे हैं और मैसेज का रिप्लाई नहीं कर सकते हैं उस स्थिति में भी ऑटो रिप्लाई करेगा. इसके लिए आपको ऑप्शन ऑन करना होगा.

इस ऐप में ऑन ट्रेन, वॉकिंग और ड्यूरिंग मीटिंग जैसे ऑप्शन्स भी दिए गए हैं, ताकि आप जब व्यस्त हों तो यह सेंडर को ऑटो रिप्लाई भेज सके. इतना ही नहीं यह ऐप यह भी डिटेक्ट कर लेगा कि आप ड्राइव कर रहे हैं और ऐसी स्थिति में यह आपकी डिवाइस को डू नॉट डिस्टर्ब में रखकर ऑटोमेटिक रिप्लाई सेंडर को भेज देगा. रिपोर्ट्स के मुताबिक ऑटो रिप्लाई में बॉट का आइकॉन होगा जिससे भेजे गए शख्स को यह पता चलेगा कि यह ऑटो रिप्लाई है.