पीरियड्स की वजह से महिला को फ्लाइट से उतारा, फिर एयरलाइन्स ने दी ऐसी सफाई

Web Journalism course

पीरिएड्स को लेकर अभी देश-दुनिया में जागुरूकता आनी बाकी है .. देश में तो इसके लिए पैडमैन जैसी फिल्म भी बन गई है पर विदेशों में इस दिशा में काम किया जाना चाहिए क्योंकि अक्सर पीरिएड्स की वजह से महिलाओं के साथ ज्यादती होती रहती है और इस बार तो इंग्लैंड की रहने वाली एक महिला को पीरिएड्स की वजह से फ्लाइट से उतार दिया गया । जी हां, आप सोच सकते हैं कि कि महिला की सुविधा का ख्याल रखने की बजाए उसे पीरिएड्स की वजह से आनन फानन में उतारना कितना उचित है।

पीरियड्स की वजह से महिला को फ्लाइट से उतारा :

टाइम्स ऑफ लंदन की खबर के अनुसार, इंग्लैंड की रहने वाली 24 वर्षीय बेथ ईवेंस और उनका बॉयफ्रेंड जोशुआ मोरान (26) 17 फरवरी को इंग्लैंड के बर्मिंघम एयरपोर्ट पर दुबई जाने वाली फ्लाइट में सवार हुए थे। उस वक्त बेथ पीरियड्स में थी जिस वजह से उन्हें तेज दर्द हो रहा था, ऐसे में जब बेथ और उनके प्रेमी आपस में बाते कर रहे थें तो फ्लाइट अटेंडेंट आकर उनसे पूछताछ करने लगी और फिर कुछ ही देर बाद उन दोनो को फ्लाइट से बाहर कर दिया गया।

महिला के बॉयफ्रेंड मोरान ने मीडिया से बातचीत में इस बारे में बताया कि, “पीरियड्स के कारण होने वाले दर्द की वजह से फ्लाइट से बाहर निकालना तो वास्तव में पागलपन है.. उस वक्त बेथ बुरी तरीके से रो रही थी जबकि एयरहोस्टेस के ऊट-पटांग सवाल कर उसे परेशान कर रही रही थी। ऐसे में भयंकर दर्द के दौरान बेथ के लिए उसके सवालों का जवाब देना बेहद कठिन और परेशान करने वाला था।” जोशुआ मोरान ने बताया कि एयरलाइन ने बेथ की देखरेख के बारे में सोचने की जगह सिर्फ एक मेडिकल टीम को फोन कर उन्हें फ्लाइट से उतार दिय।

मेडिकल इमरजेंसी की वजह से प्लेन से उतारा गया :

वहीं इस मामले में एयरलाइन कंपनी अमीरात ने सफाई देते हुए कहा है कि, “बेथ को मेडिकल इमरजेंसी की वजह से प्लेन से उतारा गया था ताकि प्लेन में उन्हें कोई असुविधा ना हो ” साथ ही एयरलाइन कंपनी ने अपने बयान में आगे ये भी कहा है कि, “बेथ की कंडिशन के बारे में क्रू को जानकारी दी गई थी कि प्लेन की एक यात्री अच्छा महसूस नहीं कर रही थी.. उसे तेज दर्द हो रहा था, जिसके बाद उसे फ्लाइट से उतारा गया, ताकि उसे जरूरी इलाज मिल सके।”

जबकि बेथ के अनुसार उन्हें इतना अधिक भी दर्द नहीं था कि उन्हें फ्लाइट में सफर न करने दिया जाए.. बल्कि एयरलाइन के इस रवैये के कारण बेथ की लगभग 36262 रुपये का टिकट बेकार हो गई और उन्हें फ्लाइट से जबरदस्ती उतारे जाने के बाद फिर से दुबई जाने के लिए टिकट करानी पड़ीं, जिसके लिए उन्हें 350 डॉलर्स यानि 22768 रुपए भी चुकाने पड़े।

इस मामले के तूल पकड़ने के बाद एयरलाइन कंपनी अमीरात ने इस बारे में अपनी आधिकारिक पर भी बयान जारी करे हुए कहा है कि यात्रियों के हालात के हिसाब से मामलों का आंकलन किया जाता है.. ऐसे में सफर के दौरान जिन यात्रियों की तबीयत बेहद नाजुक होती है उन्हें प्लेन में जाने की अनुमति नहीं दी जा सकती है, इसमें संक्रामक बीमारियां, ह्रदय और श्वास संबंधी समस्याएं शामिल होती हैं।

हालांकि फ्लाइट के स्वास्थ नियमों में भी पीरियड्स की वजह से किसी महिला यात्री को रोके जाने का कोई नियम नहीं है। ऐसे में ये घटना वाकई हैरान करने वाली है।