Newsi7 special: कॉमनवेल्थ गेम्स में भारत ने दिखाया बेजोड़ दम

Web Journalism course

पराग कमठान (सम्पादक)। आखिर वह 10 गौरवशाली दिन निकल ही गये जहां सभी भारतीय खिलाड़ियों ने एकजुट हाेकर विभिन्न खेल प्रतिस्पर्धाओं में बेहतरीन प्रदर्शन करते हुए 26 स्वर्ण,20 रजत और 20 कांस्य पदकाें पर कब्जा जमाते हुए न सिर्फ देश का नाम ऊंचा किया बल्कि हर एक हिंदुस्तानी का सीना गर्व से चौड़ा कर दिया । गोल्ड काेस्ट में होने वाले कॉमनवेल्थ गेम्स में इस बार टेबल टेनिस,बैडमिंटन,भाला फेंक,शूटिंग,कुश्ती,भारोत्तोलन और महिला बॉक्सिंग में खिलाड़ियों ने स्वर्ण की लाइन लगा दी। हांलाकि एथलेटिक्स के लिहाज से राष्ट्रमंडल खेल कभी हमारे लिए सुखद नहीं रहे पर अब इसमें भी हम तीर मारने लगे हैं । देश में जाे माहौल खेल के लिए तैयार किया जा रहा है वह अब रंग दिखाने लगा है ।

हर एक खिलाड़ी ने कराे या मराे की स्थिति में अपना सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दिखाते हुए जी जान लगा दिया जिसकी बदौलत भारत पदक तालिका में तीसरा स्थान पाने में कामयाब रहा । इस तरह की बेजोड़ एकजुटता देश के लिए शुभ संकेत है क्योंकि यही आपसी सद्भाव हर धर्म के लाेगाें के बीच भी कायम रहे ताे निश्चित ही हमें विश्वशक्ति बनने से काेई नहीं राेक सकता । खेलाें के प्रति अटूट लगन और प्रतिबद्धता ही हमें अनुशासन सिखाती है और यही अनुशासन हमें अपना लक्ष्य प्राप्त करने में सक्षम बनाता है ।

यह अंततः बेहद गाैरव का विषय है कि कम संसाधनों में भी हमने वह करके दिखाया जाे असाध्य ताे नही लेकिन 71 देशाें के रण में मुश्किल ताे था ही
 इसमें कोई शक नहीं कि राष्ट्रमंडल और एशियाई खेलों में हमारे खिलाड़ियों का बुनियादी स्तर काफी सुधरा है मगर ओलंपिक में अपनी दमदार उपस्थिति दर्ज कराने के लिए हमें देश की खेल संस्कृति को नई धार देनी हाेगी जहां चीन, जापान और काेरिया के खिलाड़ी भी उपस्थित हाेते हैं ।