कोरोना के नए स्ट्रेन के बाद विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए नए SOP जारी

विदेश से आने वाले यात्रियों के लिए 22 फरवरी 2021 की रात 11:59 बजे से नए एसओपी लागू हो जाएंगे। यूके, यूरोप और मिडिल ईस्ट से आने वाले यात्रियों के लिए सरकार ने विशेष नियम तैयार किए हैं। स्वास्थ्य मंत्रालय ने स्पष्ट किया है कि सामान्य अंतर्राष्ट्रीय यात्रियों के लिए लागू ये एसओपी यूके, यूरोप और मिडिल ईस्ट से भारत आने वाले यात्रियों के लिए नहीं हैं क्योंकि उनके लिए अलग से एसओपी जारी किए गए हैं।

अपडेट एसओपी दो भागों ए और बी में बंटी हुई है। पार्ट ए में जारी दिशानिर्देश ब्रिटेन, यूरोप और मध्य पूर्व से आने वाली उड़ानों को छोड़कर भारत में आने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए है जबकि पार्ट बी में इन स्थानों से आने जाने वाले सभी अंतरराष्ट्रीय यात्रियों के लिए है। भाग A में जारी दिशानिर्देश चार खंडों में बंटा हुआ है। इसमें भारत की यात्रा की योजना बनाते वक्‍त नियमों का अनुपालन, विमान पर सवार होने से पहले निर्देशों का पालन और यात्रा के दौरान और आगमन के बाद नियमों का अनुपालन करना होगा।

भाग A में जारी दिशानिर्देश के अनुसार यात्री को यात्रा से पहले एक सेल्‍फ डिक्‍लेरेशन यानी स्व घोषणा पत्र जमा करना होगा। साथ ही आरटी-पीसीआर निगेटिव जांच रिपोर्ट जमा करनी होगी। यात्रियों को घोषित करना होगा कि वे आगमन के बाद उपयुक्त प्राधिकरण द्वारा निर्धारित मानकों के मुताबिक 14 दिनों के लिए होम क्‍वारंटीन का पालन करेंगे। जारी दिशा निर्देशों में उन लोगों को राहत दी गई है जो अपने परिवार के किसी सदस्‍य की मृत्यु की स्थिति पर भारत आ रहे हैं। ऐसे लोगों के लिए किसी भी नकारात्मक आरटी-पीसीआर रिपोर्ट की जरूरत नहीं होगी।

नए दिशानिर्देशों के मुताबिक विदेश से आने वाले सभी यात्रियों को यात्रा से पहले ऑनलाइन एयर सुविधा पोर्टल पर अपना सेल्‍फ डिक्‍लेरेशन फॉर्म जमा कराना होगा। यही नहीं निगेटिव कोविड-19 आरटी-पीसीआर रिपोर्ट भी अपलोड करनी होगी जो यात्रा से 72 घंटे के भीतर की होनी चाहिए। यात्रियों को पोर्टल या संबंधित एयरलाइंस के जरिए हलफनामा देना होगा कि वे प्रशासन द्वारा निर्धारित होम क्वारंटीन एवं फैसलों का अनुपालन करेंगे। 

loading...