बुलिंग से तंग बच्‍चे होते हैं फूड एलर्जी के शिकार, जानिए कैसे

पेरेंटस बच्चों का उनके स्वास्थ्य से लेकर शिक्षा तक उचित रूप से ख्याल रखते हैं. बावजूद इसके बच्चे तरह-तरह की बीमारियों का शिकार हो जाते हैं. एक स्टडी के मुताबिक जिन बच्चों को फूड एलर्जी की समस्या होती है, उन्हें स्कूल में सहपाठी द्वारा अधिक तंग किया जाता है. अध्ययन में यह भी पाया गया है कि ऐसे बच्चों को सहपाठी के पेरेंट्स और टीचर्स भी डराते-धमकाते हैं. 

अध्ययन के अनुसार 13 फीसदी अभिभावकों ने अपने बच्चे के साथ बात की, 7 फीसदी पेरेंट्स ने बुलिंग करने वाले और उनके पेरेंट्स से बात की, 17 फीसदी ने टीचर और 15 फीसदी ने स्कूल प्रिंसिपल और प्रशासन से इस पर चर्चा की है. वहीं लगभग 50 फीसदी पेरेंट्स ने फूड एलर्जी पर बुलिंग को रोकने के कुछ कदम उठाए जो उनके लिए कारगार साबित हुए.

सर्वे में एक और महत्वपूर्ण तथ्य यह पाया गया कि फूड एलर्जी के कारण तंग करने वाली इस प्रक्रिया में रंगभेद को लेकर अधिक अंतर नहीं है और यह निश्चित रूप से समान महत्व रखता है कि फूड एलर्जी से ग्रस्त बच्चों को जातीय और रंगभेद के आधार पर डराया-धमकाया और परेशान नहीं किया गया है. शोधकर्ताओं के मुताबिक फूड एलर्जी की समस्या पूरे परिवार को तनावग्रस्त कर देती है और लगातार बुलिंग लोगों का जीना मुहाल कर देती है.

loading...