महिलाओं में बांझपन का कारण बन सकता है यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई), जानिए कैसे….

यूरिनरी ट्रैक्ट इन्फेक्शन (यूटीआई) आजकल एक आम समस्या है। यूरिन इंफेक्शन पुरुषों की तुलना में महिलाओं को अधिक होता है। कई महिलाओं को इस बीमारी का अधिकतर सामना करना पड़ता है। यूटीआई (UTI) को किसी के मूत्र प्रणाली के किसी भी हिस्से के संक्रमण के रूप में वर्णित किया जा सकता है जो कि किडनी, यूथेरा और मूत्राशय है. कम इम्यूनिटी, हाई ब्लड शुगर, रजोनिवृत्ति जैसे चरणों के कारण यूटीआई का संक्रमण हो सकता है, जो मूत्राशय के सूखापन, कैथेटर का उपयोग, मूत्र मार्ग में रुकावट या असामान्यताएं पैदा करते हैं. इसके अलावा, क्योंकि मूत्रमार्ग योनि के करीब स्थित है. संक्रमण मूत्रमार्ग से आगे और पीछे हो सकता है.

यूटीआई की दुर्लभ बीमारी को अब सामान्य माना जाने लगा है, किसी भी तरह से बार-बार होने वाले यूटीआई सामान्य नहीं हैं. लगातार होने वाली यूटीआई आपके ऊपरी प्रजनन पथ को प्रभावित कर सकता है. अर्थात किडनी के अलावा फैलोपियन ट्यूब और गर्भाशय, और जिससे बांझपन का खतरा बढ़ जाता है.

ये भी पढ़े- http://बढ़े हुए यूरिक एसिड को घटाने में मददगार हैं अलसी के बीज, करें ऐसे इस्तेमाल

यूटीआई से हो सकता है बांझपन

स्त्री रोग विशेषज्ञ डॉ0 ऊषा गंगवार कहती है कि एक यूटीआई फैलोपियन ट्यूब, गर्भाशय, गर्भाशय ग्रीवा और पूरे योनि क्षेत्र में फैल सकता है, जिससे पैल्विक सूजन की बीमारी हो सकती है. इस बीमारी को इन अंगों की सूजन की विशेषता है. एक बार जब ये अंग सूज जाते हैं, तो इससे बांझपन हो सकता है. अगर ऐसा कम होता है, तो इसका प्रजनन क्षमता पर कोई असर नहीं पड़ेगा. लेकिन जब यूटीआई कई बार या लगातार होता है, तो इसका परिणाम बांझपन होता है.

अगर आप लंबे समय से यूटीआई से परेशान हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से मिलना चाहिए और बांझपन पर भी बात करनी चाहिए.

http://यूरिन इंफेक्शन से छुटकारा पाने के करें ये घरेलू उपाय, जल्द मिलेगा आराम

मूत्र मार्ग के संक्रमण को रोकने के लिए कुछ टिप्स-

व्यक्तिगत स्वच्छता पर विशेष ध्यान दें-

संक्रमण से बचने के लिए आपको सार्वजनिक वॉशरूम का उपयोग करने से बचना चाहिए. अपने योनि क्षेत्र को ठीक से धोएं और वहां रासायनिक उत्पादों का उपयोग करने से बचें. ऐसी किसी भी चीज़ का इस्तेमाल न करें जिससे आपकी योनि में जलन हो. रसायनों के साथ स्प्रे और पाउडर का भी उपयोग न करें. क्षेत्र को साफ रखने से आप बैक्टीरिया को खत्म कर सकते हैं.

पानी खूब पीयें-

शरीर से टॉक्सिन्स को बाहर निकालने के लिए आपको बहुत सारा पानी पीना होगा. यह आपको पेट दर्द और सूजन से छुटकारा पाने में भी मदद करेगा. आप क्रैनबेरी रस पी सकती हैं जो आपको यूटीआई से निपटने में मदद करेगा.

दही का सेवन करें-

दही में ऐसे गुण पाए जाते हैं जिससे आपके शरीर से हानिकारक बैक्टीरिया बाहर निकल जाते हैं। जिससे आपको यूरिन इंफेक्शन में आराम मिलती है। दही के अलावा आप छाछ और दूध का सेवन भी कर सकते है। 

दवाइयां जरूर लें-

आपको डॉक्टर द्वारा बताई गयी दवाएं लेनी चाहिए और उन्हें छोड़ना  नहीं चाहिए.

ये भी पढ़े-http://महिलाओं की इन गलत आदतों के कारण किडनी पर पड़ता है बुरा असर

http://हेल्थ की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

loading...