कई बीमारियों से बचाते हैं ये औषधीय पौधे, जानिए इनके कमाल के फायदे…..

औषधीय पौधे कई बीमारियों के इलाज के लिए बहुत फायदेमंद होते हैं. अथर्ववेद में औषधीय पौधों के साथ-साथ उनके उपयोग किए जाने वाले विभिन्न तरीकों का भी उल्लेख किया गया है. चोट या घाव का इलाज करने के साथ मलेरिया, टाइफाइड और बुखार को कम करने के लिए औषधीय पौधों का उपयोग किया जाता है. आजकल डेंगू और कोरोना के इलाज में भी औषधीय पौधों का प्रयोग किया जा रहा है। इन पौधों से बहुत सी बीमारियों के लिए दवाएं भी बनाई जाती हैं. अगर आपके घर या आसपास औषधीय पौधे हैं, तो आप उनका इस्तेमाल कुछ बीमारियों के उपचार के लिए बड़ी आसानी से कर सकते हैं. बहुत से औषधीय पौधे को आप अपने घर पर लगा भी सकते हैं. तो आइए जानते हैं कि वे कौन से औषधीय पौधे हैं, जिनका सेवन करना आपके लिए फायदेमंद साबित हो सकता है. 

नीम

Neem Leaves Health Benefits And Home Remedies In Hindi - नीम के पत्तों से  घटेगी शुगर, दूर होगा संक्रमण और दर्द | Patrika News

नीम के पेड़ की छाल,, इसकी पत्तियों, बौर और फलों का उपयोग मसूड़ों और दांतों को साफ करने के लिए किया जाता है, इन्हें त्वचा की कई समस्याओं के इलाज के लिए भी इस्तेमाल किया जा सकता है.  नीम का पेड़ एक अद्भुत लाभ वाला पेड़ है. नीम के पत्तों का सेवन रक्त को शुद्धकरता है. इसके एंटी-बैक्टीरियल गुण एक कवकनाशी के रूप में कार्य करते हैं और प्रभावी रूप से एक्जिमा, सोरायसिस और रूसी के इलाज के लिए उपयोग किया जाता है.

ये भी पढ़े- http://सर्दी के मौसम में करें इस आयुर्वेदिक काढ़ा का सेवन, बढ़ेगी इम्यूनिटी

तुलसी 

know vastu tips and Qualities of Tulsi Plant | आपके पैसे से तुलसी के पौधे  का है कनेक्शन, जानें कैसे? | Hindi News, धर्म

तुलसी को हमेशा से भारत में रक्त को शुद्ध करने वाली मानी जाती रही है. गले के विकारों के इलाज में इसकी पत्तियों से बनी चाय बहुत कारगर है. तुलसी से बने अर्क का इस्तेमाल घाव और त्वचा की समस्याओं के लिए किया जाता है.

एनाइज 

star anise for face wrinkles: Anti-aging skin care: चेहरे पर बोटोक्‍स जैसा  असर छोड़ता है चक्रफूल, स्‍किन बन जाती है 10 साल जवां - star anise to get  rid of wrinkles at

एनाइज पौधे के बीज का उपयोग पेट फूलना, शूल और पाचन तंत्र की बीमारियों से निपटने के लिए किया जाता है. एनाइज एक नाजुक पौधा है और कभी-कभी बच्चों को खांसी की दवा के रूप में दिया जाता है.

ये भी पढ़े- http://ठंड में इन सब्जियों का करें सेवन, मिलेगी ताकत

दालचीनी 

दालचीनी जो आप काम में ले रहे हैं वो असली है या नकली - Cinnemon Real or fake

दालचीनी एक उत्प्रेरक की तरह काम करता है. यह रक्त को शुद्ध करता है और संक्रमण से निपटने में भी मदद कर सकता है.

मेथी

Tips: सर्दियों में जरूर खाएं मेथी, होंगे ये 10 फायदे - Tips must eat  fenugreek in winter these benefits - Latest News & Updates in Hindi at  India.com Hindi

मेथी फेफड़ों में संक्रमण को कम करती है. यह वजन घटाने में मददगार साबित होता है. शोध में बताया गया है कि मेथी के दाने में इंसुलिन की सक्रियता को बढ़ाने के साथ साथ लिपिड, कोलेस्ट्रॉल और वसा की ज्यादा मात्रा को नियंत्रित करने की क्षमता होती है. क्योंकि, ये सभी संयुक्त रूप से मोटापे के मुख्य कारणों में शामिल हैं. ऐसे में माना जाता है कि मेथी के फायदें में एंटी-ओबसिटी प्रभाव यानी मोटापा कम करने वाला गुण मौजूद होता है. जो मोटापे को कम करने में मददगार साबित होता है. वहीं जिन लोगों को एसिडिटी या गैस की समस्या है उनके लिए मेथी का पानी रामबाण इलाज है. 

कैमोमाइल

Chamomile Tea for Weight Loss, वजन कम करने के लिए पिएं कैमोमाइल टी

कैमोमाइल पौधा अपने एंटी-बैक्टीरियल, एंटी-माइक्रोबियल और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुणों के लिए जाना जाता है. इसका उपयोग जुकाम से सुरक्षा के लिए, बैक्टीरिया के संक्रमण से लड़ने के लिए, अवसाद और चिंता का इलाज करने के लिए, मासिक धर्म में ऐंठन के लिए, मांसपेशियों की ऐंठन के इलाज के लिए और अनियमित नींद के पैटर्न का इलाज करने के लिए किया जाता है.

ये भी पढ़े- http://ज्यादा अंडा खाना सेहत के लिए खतरनाक, हाे सकता है शरीर काे नुकसान

गिलोय

रामदेव बेच-बेचकर अमीर हुए जा रहे हैं, समुद्र मंथन के बाद पैदा हुई थी ये चीज  - home remedies with the help of giloy

गिलोय शरीर को रोगों से लड़ने की क्षमता देता है, इसके सेवन से रोग प्रतिरोधक क्षमता बढ़ती है। आयुर्वेद में इसका इस्तेमाल कई बीमारियों के लिए किया जाता है. बरसात के मौसम में होने वाली वायरल बीमारियों मलेरिया, डेंगू और चिकनगुनिया में भी गिलोय का सेवन किया जाता है।

गिलोय का पहला और सबसे महत्वपूर्ण लाभ है, रोगों से लड़ने की क्षमता देना। इसमें एंटीऑक्सीडेंट गुण होते हैं, जो सेहत में सुधार लाते हैं और खतरनाक रोगों से लड़ते हैं। गिलोय किडनी और लिवर से विषाक्त पदार्थों को दूर करता है और मुक्त कणों को भी बाहर निकालता है।

इसके अलावा गिलोय बैक्टीरिया, मूत्र मार्ग में संक्रमण और लिवर की बीमारियों से भी लड़ता है जो कई रोगों की वजह बनते हैं। गिलोय का जूस नियमित रूप से पीने से रोगों से लड़ने की क्षमता बढ़ती है। गिलोय की पत्त‍ियों में कैल्शि‍यम, प्रोटीन, फॉस्फोरस पर्याप्त मात्रा में पाया जाता है।

इसके अलावा इसके तनों में स्टार्च की भी अच्छी मात्रा होती है। गिलोय का इस्तेमाल कई तरह की बीमारियों में किया जाता है। ये एक बेहतरीन पावर ड्रिंक भी है। ये इम्यून सिस्टम को बूस्ट करने का काम करती है, जिसकी वजह से कई तरह की बीमारियों से सुरक्षा मिलती है।

http://हेल्थ की अन्य खबरें पढ़ने के लिए यहां पर क्लिक करें

loading...