क्या प्रशांत किशोर टीएमसी काे विधानसभा चुनाव में जीत दिला पायेंगे?

पश्चिम बंगाल में 2021 में विधानसभा चुनाव होने हैं। चुनाव में अभी लगभग छह महीने का समय बचा है, लेकिन सभी दल अपनी-अपनी रणनीति बनाने में जुट गए हैं। भाजपा और वामदल-कांग्रेस ने इसे लेकर मंगलवार को अलग-अलग बैठकें कींं।

वहीं राज्य में सत्तारूढ़ तृणमूल कांग्रेस (टीएमसी) के लिए चुनावी रणनीतिकार प्रशांत किशोर ने काम शुरू कर दिया है। मगर तृणमूल के असंतुष्टों ने किशोर पर ही सवाल खड़े कर दिए हैं, ऐसे में टीएमसी भाजपा की चुनौती से कैसे निपट पाएगी। सत्तारूढ़ पार्टी के कुछ विधायक प्रशांत किशोर के बारे में बातें कर रहे हैं।

टीएमसी में प्रशांत किशोर का कितना विरोध है, यह पार्टी के विधायकों के बयानों से समझा जा सकता है। मुर्शीदाबाद जिले के तृणमूल विधायक नियामत शेख ने रविवार को एक जनसभा के दौरान कहा था कि क्या हमें प्रशांत किशोर से राजनीति समझने की जरूरत है? कौन हैं पीके? यदि बंगाल में टीएमसी को नुकसान पहुंचता है तो यह पीके की गलती होगी। 

इस बीच भाजपा नेताओं ने राज्य को पांच जोन में विभाजित किया है। जोन इंचार्ज 18, 19 और 20 नवंबर को मुलाकात करेंगे और अपनी रिपोर्ट केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह को सौंपेंगे जो पार्टी के मुख्य रणनीतिकार हैं। रिपोर्ट्स के अनुसार, अमित शाह 30 नवंबर को एक बार फिर से कोलकाता का दौरा कर सकते हैं। यदि वे बंगाल आते हैं तो यह उनका एक महीने के अंदर दूसरा दौरा होगा। पिछली बार यहां आने पर शाह ने 294 विधानसभा सीटों में से 200 पर भाजपा की जीत का दावा किया था।

 

 

loading...