Newsi7 Special- भारतीय जनता पार्टी हर मोर्चे पर खुद को साबित करने का कर रही है प्रयास

Web Journalism course

लखनऊ, पराग कुमार (सम्पादक)। देश के 21 राज्यों का प्रतिनिधित्व करने वाली  भारतीय जनता पार्टी आज अपना 38वां स्थापना दिवस मना रही है। इस मौके पर यह कहने में मुझे काेई गुरेज नहीं कि भारत में इसी पार्टी में जनता की जनशक्ति और अधिकतम हित छिपे हुए हैं , क्योंकि अगर आप पिछले 4 वर्षाें में पार्टी के कामकाज पर नजर डालें ताे पायेंगे कि इसने सबकाे साथ लेकर जोड़ने का काम किया है। गरीबों और किसानों के हितों काे सर्वोच्च मानते हुए तमाम याेजनाआें के माध्यम से उन्हें लाभ पहुंचाने का प्रयास किया गया है । पिछले चार सालाें में भाजपा की केन्द्र शासित सरकार ने घाेटालाें की आंच से खुद काे दूर रखा और हर माेर्चे पर  पार्टी ने स्वंय को  साबित किया है।

बताते चलें कि जाे हीरा व्यापारी नीरव माेदी का पीएनबी कर्ज घोटाला सुर्खियाें में आया वह बाेया हुआ पिछली सरकार के जमाने का था लेकिन खुला वर्तमान सरकार के समय में । 2004 से लेकर 2014 तक कांग्रेस सरकार के शासनकाल में कई ताबड़तोड़ घाेटाले हुए और हजाराें करोड़ के न्यारे व्यारे हुए जिसका आज तक काेई पुरसाहाल लेने वाला नहीं है लेकिन भाजपा सरकार ने आज तक साफ सुथरा काम कर एक छवि पेश की है ।

भारतीय जनता पार्टी ने अपने स्थापना के 38 वर्षाें में हमेशा स्वस्थ लाेकतंत्र और सबसे पहले देश जैसी प्रभावी विचारधारा से जनता के बीच काम किया है । भारत माता की संप्रभुता, आम जन मानस का कल्याण, वंचिताें और शाेषिताें काे साथ लेकर चलने का संकल्प ही भाजपा काे 11 करोड़ से अधिक सदस्यों के साथ विश्व की सबसे बड़ी पार्टी हाेने का गौरव प्रदान करता है ।

प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के अनुसार कुछ न अच्छे लगने वाले फैसलाें से अगर जनता का भला हाे रहा हाे ताे जरूर लेने चाहिए क्योंकि ऐसे फैसलाें से दूरगामी लाभ अवश्य हाेते हैं । हालांकि जीएसटी हाे या नाेटबंदी इससे आम आदमी काे कष्ट ताे अवश्य हुआ लेकिन कालाधन रखने वालाें की कमर टूट गई । उसी प्रकार सर्जिकल स्ट्राइक करना पाकिस्तान जैसे शत्रु देश काे छठी का दूध याद दिला गया और हमारा सिर गर्व से ऊंचा हाे गया ।

भाजपा ने हमेशा हम हिन्दुस्तानियाें काे अंग्रेज़ियत से दूर करके अपनी हिंदू संस्कृति और सभ्यता का ग्यान कराया है । इसीलिए भाजपा एक पार्टी नहीं वरन् समृद्ध साेच है , देशहित में निहित जज्बा है और अक्षुण्ण विचारधारा है जिसे मन और दिल से आत्मसात करके ही सार्थक परिणाम दिए जा सकते हैं ।