UP- बंद होगी भौतिक स्टांप पेपर की बिक्री, ई-स्टांपिंग को बढ़ावा

Web Journalism course

उत्तर प्रदेश में भौतिक स्टांप पेपर की बिक्री बंद होने जा रही है। यूपी की योगी सरकार ने चालू वित्तीय वर्ष में स्टांप पेपर की छपाई का कोई नया आर्डर न देने का फैसला किया है। इससे प्रदेशवासियों को कोई दिक्कत न होने पाए इसके लिए सरकार ई-स्टांपिंग को बढ़ावा देगी।

स्टांप एवं पंजीयन राज्य मंत्री (स्वतंत्र प्रभार) रवीन्द्र जायसवाल के अनुसार भौतिक स्टांप पेपर के लिए अब कोई भी नया आर्डर नासिक या हैदराबाद प्रिंटिंग प्रेस को न देने का फैसला किया गया है। पिछले वर्षों के आर्डर से राज्य की ट्रेजरी में अभी तकरीबन 15 हजार करोड़ रुपये के स्टांप पेपर हैं, बस उन्हें ही बेच कर खत्म किया जा रहा है। 

उन्हाेंने कहा कि भौतिक स्टांप पेपर न मिलने से किसी को परेशानी न हो इसके लिए सरकार ने 10 हजार कंप्यूटर दक्ष नवयुवक और नवयुवतियों को ई-स्टांपिंग के लिए प्राधिकृत संग्रह केंद्र (एसीसी) के तौर पर स्टांप विक्रेता नियुक्त करने का अहम फैसला किया है। 

पहले से जो स्टांप वेंडर हैं, उन्हें भी अब स्टॉक होल्डिंग कारपोरेशन ऑफ इंडिया के माध्यम से किसी भी वैल्यू तक की ई-स्टांपिंग के लिए अधिकृत किया गया है। सभी को कमीशन के तौर पर 0.5 फीसद का 0.23 प्रतिशत यानी एक लाख रुपये की ई-स्टांपिंग पर 115 रुपये मिलेंगे।

loading...