राफेल विमानों के पहुंचने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संस्कृत के इस श्लोक से किया स्वागत

Web Journalism course

देश में राफेल विमानों के पहुंचने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने संस्कृत के श्लोक से स्वागत किया। प्रधानमंत्री ने संस्कृत में ट्वीट कर कहा, ‘राष्ट्र रक्षासमं पुण्यं, राष्ट्र रक्षासमं व्रतम्, राष्ट्र रक्षासमं यज्ञो, दृष्टो नैव च… नैव च… नभः स्पृशं दीप्तम्…स्वागतम्!’ इस श्लाेक का अर्थ है… राष्ट्र रक्षा से बढ़कर ना कोई पुण्य है, न कोई व्रत, ना ही कोई यज्ञ है, आकाश के दीप्‍तिमान स्‍वागत है।

File Pic

बताते चलें कि पांच राफेल विमानों का पहला जत्था फ्रांस से बुधवार को भारत पहुंच गया। सभी विमान सोमवार को फ्रांस से रवाना हुए थे।  

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने राफेल के आगमन का स्‍वागत करते हुए कहा कि गति से लेकर हथियारों की मारक क्षमता तक, राफेल सबसे आगे है। मुझे पूरा भरोसा है कि ये विश्‍व स्तरीय लड़ाकू विमान वायुसेना में एक गेम चेंजर साबित होंगा। 

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि अब हमारी वायुसेना की नई क्षमता से हमारी क्षेत्रीय अखंडता के लिए खतरा बनने वालों को चिंतित होने की जरूरत है। भारत में राफेल लड़ाकू विमानों का पहुंचना देश के सैन्य इतिहास में एक नए युग की शुरुआत है। 

 

loading...