राजीव गांधी की 29वीं पुण्यतिथि आज, मनाया जा रहा है राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस

Web Journalism course

राष्ट्रीय आतंकवाद विरोधी दिवस की आधिकारिक घोषणा 21 मई, 1991 को भारत के सातवें प्रधानमंत्री राजीव गांधी की हत्या के बाद की गई थी। वह आतंकवादी द्वारा एक अभियान के दौरान तमिलनाडु में मारे गए थे।

फिर, वी.पी. सिंह सरकार ने 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस के रूप में मनाने का फैसला किया। तभी से यह देश में मनाया जाता है। साथ ही, इस दिन सभी सरकारी कार्यालयों, सार्वजनिक उपक्रमों और अन्य सार्वजनिक संस्थानों इत्यादि में आतंकवाद विरोधी प्रतिज्ञा ली जाती है।

आतंकवाद के बारे में युवाओं को ज्ञान प्रदान करने, मानव पीड़ा और जीवन पर इसके प्रभाव के बारे में जागरूक करने के लिए हर साल 21 मई को आतंकवाद विरोधी दिवस मनाया जाता है। यह दिन लोगों को आतंकवाद विरोधी सामाजिक कार्य के लिए भी जागरूक करता है।

बताते चलें कि भारत के पूर्व प्रधानमंत्री राजीव गांधी की तमिलनाडु के श्रीपेरंबदूर में लिट्‍टे आतंकवादियों ने इसी दिन यानी 21 मई 1991 को हत्या कर दी थी।