तेजी से गिरी टिक टॉक की रेटिंग, 4.4 स्टार रेटिंग से जा पहुंची…

Web Journalism course
देश में एक तरफ लॉकडाउन है तो दूसरी तरफ सोशल मीडिया पर टिकटॉकर्स और यूट्यूबर्स के बीच बवाल मचा हुआ है. हालांकि इस बीच एक ऐसी खबर आई है जो कईयों को निराश कर सकती है. जी हां, हम आज बात करने वाले हैं टिकटॉक ऐप के बार में. टिक टॉप ऐप की टीआरपी इन दिनों भारत में बड़ी तेजी से गिर रही है. एक तरफ जहां कभी टिक टॉक के 4.4 स्टार रेटिंग थे वहीं अब बताया जा रहा है कि टिकटॉक की रेटिंग गिरकर पहले तो 3.8 पहुंची इसके बाद यह रेटिंग प्लेस्टोर पर 2.0 पहुंची गई. यही नहीं लोग सोशल मीडिया पर #BANTIKTOK का हैशटैग भी चला रहा हैं और यह ट्रेंड भी कर रहा है. हालांकि रेटिंग में गिरावट को लेकर अभी तक किसी तरह की अधिकारिक पुष्टी नहीं की गई है लेकिन यह बात तो तय है कि टिकटॉक को लेकर लोग खासा नाराज मालूम पड़ रहे हैं. बता दें कि टिक टॉक को लेकर कंपनी ने पिछले साल बताया था कि टिकटॉक ऐप को भारत ही नहीं दुनियाभर में काफी कम वक्त में काफी ज्यादा लोगों ने डाउनलोड किया है लेकिन इस बार मामला उलटा पड़ता दिखाई पड़ रहा है. हुआ यूं कि बीते दिनों यूट्यूब प्लैटफॉर्म पर रोस्ट करने वाले कैरीमिनाटी यानी अजय नागर ने एक रोस्ट वीडियो बनाया था. इस वीडियो में कैरी ने एक टिकटॉकर को रोस्ट किया था. हालांकि इस विवाद में कैरी को टिकटॉक स्टार ने ही घसीटा था लेकिन बाद में इसका परिणाम कहीं न कहीं कैरीमिनाटी को ही भुगतना पड़ा है. कैरी के रोस्ट किए गए वीडियो को दर्शक काफी पसंद कर रहे थे. यह वीडियो कई रिकॉर्ड्स बना चुका था साथ ही यह और कई रिकॉर्ड्स तोड़ भी रहा था. एक दिन में इस वीडियो को 7.5 मिलियन से ज्यादा व्यूज मिले थे. साथ ही इस वीडियो को लाखों लोग लाइक कर चुके थे बावजूद इसके इस वीडियो को यूट्यूब ने कैरीमिनाटी के चैनल से हटा दिया. बस फिर क्या था कैरी को फैन्स, उनके दोस्तों व कई मशहूर यूट्यूबर्स को इस बात पर गुस्सा आ गया और उन्होंने टिकटॉक को बैन व बॉयकॉट करने की अपील भी की है. यही नहीं जिस टिकटॉकर को कैरीमिनाटी ने रोस्ट किया था. उस टिकटॉकर का कैरी को गाली देते हुए कई सारी ऑडियो भी वायरल हुए हैं. इस कड़ी में मशहूर यूट्यूबर अमित भड़ाना, आशीष चांचलानी, हर्ष बेनीवाल वहीं बिग बॉस 13 का हिस्सा रह चुके हिंदुस्तानी भाऊ ने भी टिकटॉक को बॉयकॉट करने की अपील की है. बता दें कि यह मामला अब भी तूल पकड़ता ही जा रहा है. यही कारण है कि टिकटॉक और यूट्यूब के क्रिएटर्स के बीच हो रही बहस का नुकसान टिकटॉक को उठाना पड़ रहा है. टिक टॉक पर क्या है आरोप बता दें कि पहले भी कोर्ट में टिक टॉक को बैन करने को लेकर सुनवाई की जा चुकी है. पिछली साल ऐसी खबरे आने लगी थी मानों टिक टॉक को बैन कर दिया जाएगा लेकिन सरकार द्वारा ऐसा नहीं किया गया. हालांकि टिक टॉक पर हमेशा ही धार्मिक भावनाओं के ठेस पहुंचाने, एसिड अटैक को बढ़ावा देने, भद्दे कंटेंट, सेक्सुअल कंटेट को लेकर आरोप लगते रहे हैं.