बेटे के साथ ऐसी हरकत करते नजर आए इरफान पठान, वीडियो देख आप भी हो जाएगे हैरान..

Web Journalism course

पूर्व भारतीय ऑलराउंडर इरफान पठान सोशल मीडिया पर बेहद सक्रिय रहने वाले लोगों में से एक हैं. उनकी फैन फॉलोइंग भी जबरदस्त है. फिलहाल पठान रमजान के महीने में रोजे रख रहे हैं, जिनमें पूरा दिन बिना कुछ खाए पिए रहना पड़ता है. लेकिन इस दौरान भी इरफान का एनर्जी लेवल कम नहीं हुआ है. इसका नजारा रोजाना उनके किसी न किसी पोस्ट में अपलोड किए जाने वाले वीडियो से मिलता रहता है. इरफान ने एक ऐसा ही वीडियो इंस्टाग्राम  पर अपलोड किया है, जिसमें वे अपने बेटे को ऊपर उछालकर कैच कर रहे हैं. इस वीडियो पर उनके फैंस ने कुछ ऐसे कमेंट किए हैं, जिन्हें पढ़कर आप हंसे बिना नहीं रहेंगे.

इरफान ने वीडियो अपलोड करने के साथ ही उसका एक कैप्शन भी लिखा है. उन्होंने लिखा, बच्चे, परिवार, प्यार, इन सबका चारों तरफ रहना आपकी आत्मा को बेहतर अहसास कराता है. इरफान के इस कैप्शन को उनके फैंस ने खूब पसंद किया है. उन्होंने इरफान को रमजान की मुबारकबाद दी हैं. इस वीडियो को करीब 1.84 लाख से ज्यादा लोग देख चुके हैं.

View this post on Instagram

Staying around them makes ur soul feel better #kids #love #family

A post shared by Irfan Pathan (@irfanpathan_official) on

“टपका चुके हो पहले आसान कैच”

इरफान के इस वीडियो पर तौसीफ अंसारी नाम के  एक फैन ने लिखा, ध्यान से भाई, आप पहले एक-दो बार कुछ ऐसे आसान कैच टपका चुके हो. एक अन्य फैन अकबरीकर्म8985 ने लिखा, सर ध्यान रखिए, मुश्किल से मुश्किल कैच पकड़ा जाता है और आसान से आसान कैच छूट भी जाता है. एक फैन फरमाइत इनांदिया ने इसे जिंदगी का सबसे अहम कैच बताते हुए दुआएं दी हैं. एक अन्य फैन भग्गू_14 ने भी इसे जीवन के पलों में परफेक्ट कैच बताया तो मोबीन सलमानी ने “ईजी कैच” करार दिया. वेलिइद डिजायर्स नाम की एक महिला फैन ने लिखा, “मेरा दिल एक धड़कन मिस कर गया, जब रेयान हवा में था. प्लीज यह भी लिखें कि इस स्टंट को घर पर ना दोहराएं. एक फैन फहद ईनामदार ने लिखा कि कुछ कैच हंसी जीत लेते हैं.

अपने पहले कोच भी किए हैं याद

इरफान ने इंस्टाग्राम पर स्टोरी में अपने सबसे पहले कोच की बेहद पुरानी तस्वीर लगाकर उन्हें भी याद किया हुआ है. उनके एक कोच मेहंदी थे और दूसरे बशीर. इन दोनों ने ही मस्जिद के छोटे से कमरे में रहने वाले बेहद गरीब पठान बंधुओं की प्रतिभा को पहचानकर उन्हें क्रिकेट की ट्रेनिंग देनी चालू की थी. बशीर का अब निधन हो चुका है.