अपने पति से ये 5 उम्मीदें हमेशा रखती हैं पत्नियां…

Web Journalism course

शादी का रिश्ता जिंदगी भर का होता है। फेरे लेते समय हर पति -पत्नी वादा करते हैं कि हमेशा एक-दूसरे का साथ देंगें। ऐसे में कई उम्मीदे भी होती हैं। पति-पत्नी का रिश्ता ताउम्र साथ निभाने का, सुख-दुख में साथ-साथ चलने का और एक-दूसरे से अपेक्षाओं का होता है। यह एक ऐसा रिश्ता है जिसमें आप अपने दिल की हर बात शेयर कर सकते हैं। पति तो अपनी पत्नी से उम्मीदें रखते ही है इसके अलावा पत्नीयां भी अपने पति से कुछ उम्मीदें रखती हैं। वो चाहती हैं कि उनके पति उनसे जुड़ी कुछ खास बातों का ध्यान रखें। आइए, जानते हैं हर पत्नी अपने पति से क्या उम्मीदें रखती है।

भावनात्मक रूप से हमेशा साथ दें

शादी के अटूट बंधन में बंधने के साथ ही पत्नी सबसे अधिक जिस बात की उम्मीद पति से रखती है, वो है भावनात्मक साथ की। हर छोटी-बड़ी बात पर, सुख-दुख में, विपरीत व कठिन परिस्थितियों में वो पति से आशा करती है कि वो उसे इमोशनल सपोर्ट दें। उनका भावनात्मक साथ पत्नी को परिस्थितियों के तनाव-अवसाद से जल्दी उबार देता है।

शादी के सालगिरह और जन्मदिन याद रखें

शादी की सालगिरह हर कपल के लिए खास होती है। अगर आप अपनी शादी की सालगिरह याद रखेंगें तो आपकी पत्नी को अच्छा लगेगा और वो बहुत खुश हो जाएगी। इसी तरह वो चाहती हैं की आप उनका बर्थडे भी याद रखें और उन्हें सबसे पहले आप ही विश करें।

तारीफ़ करें

कहते हैं, प्रशंसा सुनना महिलाओं की सबसे बड़ी कमज़ोरी होती है, उस पर पत्नी हो, तो मामला और भी संवेदनशील हो जाता है। इसलिए जब कभी पत्नी ने आपके लिए प्यार से लज़ीज़ भोजन बनाया हो, घर-परिवार से जुड़ा उल्लेखनीय कार्य किया हो, किसी भी छोटे-मोटे, पर ख़ास काम को अच्छी तरह से पूरा किया हो, तो उसकी प्रशंसा ज़रूर करें। इससे पत्नी को न केवल ख़ुशी होगी, बल्कि उसका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा।

शॉपिंग करवाएं

लड़कियों को शॉपिंग करना बहुत पसंद होता है। महिलाएं अपने स्ट्रेस को दूर करने के लिए शॉपिंग करना ज़्यादा पसंद करती हैं और उन्हें अच्छा लगता है कि वो अपने पति के पसंद की ड्रेस खरीदें। पतियों को शॉपिंग करना कम ही पसंद आता है, पर जब आप अपनी पत्नी के साथ शॉपिंग करते हैं, तो इससे आपसी लगाव और भी बढ़ जाता है।

बिहेवियर को ड्रामा न समझें

अमूमन कई पतियों की आदत होती है कि वे अपनी पत्नी की स्वाभाविक क्रिया-प्रतिक्रिया, मांगों आदि को ड्रामा बताकर मज़ाक उड़ाते हैं, जबकि पत्नी उम्मीद करती है कि कोई समझे न समझे, पर पति उनकी हर बात-व्यवहार को ज़रूर जानें-समझें। यदि आप भी इस तरह के पतियों में से हैं, तो संभल जाएं। क्योंकि पति के उपेक्षित व ग़लत व्यवहार से भी पत्नी ग़ुस्सैल व झगड़ालू प्रवृत्ति की बन जाती है। इसलिए पत्नी की बात को अनदेखा करने, उसका मखौल उड़ाने की बजाय शांति व धैर्य से स्थिति को समझने की कोशिश करें।