मशहूर क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले का बयान, कहा- खत्म हो चुका धोनी का वक्त…

Web Journalism course

मशहूर क्रिकेट कमेंटेटर हर्षा भोगले ने दिग्गज विकेटकीपर बल्लेबाज महेंद्र सिंह धोनी के भविष्य को लेकर बड़ा बयान दिया है. हर्षा भोगले के मुताबिक अब धोनी का वक्त खत्म हो चुका है और इस साल ऑस्ट्रेलिया में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में उनका खेलना संभव नहीं है. महेंद्र सिंह धोनी ने अपना आखिरी इंटरनेशनल मैच जुलाई 2019 में न्यूजीलैंड के खिलाफ वर्ल्ड कप का सेमीफाइनल खेला था.

वर्ल्ड कप के सेमीफाइनल में महेंद्र सिंह धोनी के रन आउट होते ही टीम इंडिया की उम्मीदें टूट गई थीं. हर्षा भोगले ने कहा, ‘मुझे नहीं लगता कि धोनी इस साल अक्टूबर में होने वाले टी-20 वर्ल्ड कप में खेल पाएंगे. हो सकता है कि धोनी का आईपीएल अच्छा हो, लेकिन मुझे ऐसा लगता है कि शायद यह काफी नहीं, यह इससे आगे की बात है.’

धोनी पर क्या बोले हर्षा भोगले?

भोगले ने कहा, ‘मेरा मानना है कि धोनी की टीम इंडिया में वापसी मुश्किल है. अब शायद धोनी का वक्त खत्म हो चुका है.’ बता दें कि आईपीएल के स्थगित होने के साथ ही महेंद्र सिंह धोनी का दोबारा टीम इंडिया के लिए खेलने के सपने पर ब्रेक लग गया है.

हर्षा भोगले ने कहा, ‘मुझे ऐसा लगता है कि धोनी चेन्नई सुपरकिंग्स के लिए खेलना चाहते हैं. पिछले साल लीग चरण के अंत में मुझे कुछ मैचों में पुरस्कार वितरण करने का मौका मिला था. उस दौरान धोनी रुकने का नाम नहीं लेते थे और बातचीत 8-9 मिनट तक चली थी, जबकि अकसर यह तीन-चार मिनट तक चलती थी.’

गावस्कर भी मानते हैं मुश्किल है धोनी की वापसी

पूर्व भारतीय कप्तान सुनील गावस्कर ने हाल ही में कहा था कि मैं निश्चित रूप से धोनी को टी-20 वर्ल्ड कप टीम में देखना चाहूंगा, लेकिन ऐसा संभव नहीं होगा. गावस्कर ने कहा था, ‘अब टीम इंडिया आगे बढ़ गई है. धोनी कोई बड़ी घोषणा करने वाले नहीं हैं, इसलिए मुझे लगता है कि वह चुपचाप क्रिकेट से संन्यास ले लेंगे.’

सहवाग बोले- क्यों नहीं होगी धोनी की वापसी

पूर्व विस्फोटक ओपनर वीरेंद्र सहवाग ने कहा था कि सेलेक्टर्स अब आगे की सोच रहे हैं. केएल राहुल अब बल्लेबाजी के साथ विकेटकीपिंग में अच्छा कर रहे हैं. वहीं, ऋषभ पंत भी इस लिस्ट में शामिल हैं. सहवाग के मुताबिक धोनी अगर IPL में अच्छा प्रदर्शन करते भी हैं तो टीम इंडिया में उनकी वापसी आसान नहीं. वीरेंद्र सहवाग ने कहा था कि IPL 2020 भी एमएस धोनी की वापसी की गारंटी नहीं होगा.

कोरोना महामारी में दान को लेकर हुआ था बवाल

वैश्विक महामारी कोरोना के कारण अब तक 30,000 से अधिक मौतें हुई हैं. भारत में अब तक 25 से अधिक लोगों की जान जा चुकी है. जानलेवा कोरोना वायरस लड़ने के लिए खेल जगत के कई दिग्गज उतर आए हैं.

धोनी ने पुणे स्थित एक एनजीओ के माध्यम से 1 लाख रुपये का योगदान दिया. धोनी की इस आर्थिक मदद को लेकर उनके फैंस ने सोशल मीडिया पर जमकर नाराजगी जताई. एक फैन ने लिखा- 800 करोड़ रुपये कमाने वाले धोनी ने सिर्फ एक लाख रुपये की मदद की…यह दुखद है.

हालांकि ऐसी रिपोर्ट है कि पुणे स्थित एनजीओ ने लोगों को मदद पहुंचाने के लिए 12.5 लाख रुपये जमा करने का लक्ष्य रखा था. जिसमें एक लाख रुपये कम पड़ रहे थे. ऐसे में धोनी ने इस रकम को पूरा किया. उन्होंने क्राउडफंडिंग वेबसाइट केटो के माध्यम से पुणे स्थित मुकुल माधव फाउंडेशन को सहयोग के तौर पर एक लाख रुपये दिए.

यह फाउंडेशन लॉकडाउन के दौरान 14 दिनों तक करीब 100 परिवारों के लिए भोजन की व्यवस्था करेगा. इससे संदेश यह गया कि धोनी ने महज एक लाख रुपये का दान किया है और वह ट्रोल किए जाने लगे. अभी धोनी की ओर से दान की घोषणा नहीं हुई है.