Newsi7 Special- कोरोना को साथ मिलकर हराना है, We will win

Web Journalism course

Newsi7 Special में कोरोना वायरस पर वरिष्ठ पत्रकार शरद मिश्रा का लेख

लखनऊ।  कोविड -19 को लेकर भारत जिस तरह के कदम उठा रहा है वह बेहद सराहनीय हैं। इस समय विश्व के 184 देश इस समस्या से जूझ रहे हैं और पूरी दुनियां में लगभग पौने तीन लाख लोग इस बीमारी की चपेट में आ चुके हैं, वहीं 11,000 से अधिक कैजुअल्टीज भी रिपोर्ट की गई है। विकसित राष्ट्र की श्रेणी वाले देश भी इसके प्रभाव से अछूते नहीं रह गए।

वर्ल्ड हेल्थ ऑर्गेनाइजेशन की वेबसाइट के अनुसार इटली के बाद चाइना में सर्वाधिक मृत्यु हुई हैं। इसी प्रकार अन्य देशों में मृत्यु का आंकड़ा तीन से चार अंकों में पहुंच चुका है। इनमें बहुत से ऐसे देश है जहां की आबादी बहुत अधिक नहीं है। ऐसी विश्वव्यापी विभीषिका के मद्देनजर भारत जिस सजगता के साथ अपने नागरिकों को साथ लेकर चुनौती से निपटने की तैयारी में जुटा है वह प्रशंसनीय है। अब तक लगभग देश में 300 से अधिक लोगों के इससे संक्रमित की सूचना प्राप्त हो रही है। वहीं अभी देश में चार से अधिक मृत्यु की सूचना है ।

भारत सरकार द्वारा सतर्कता के लिए उठाए जा रहे कदमों के द्वारा एक बड़ी जनसंख्या वाले देश में कोविड-19 का प्रकोप व्यापक नहीं हो सका है। सरकार और समाज की सामूहिक पहल के चलते देश, प्रकोप को अब तक सीमित दायरे में रखने में सफल हो सका है। भारत में इस बीमारी की चपेट में आए कई लोग स्वस्थ होकर वापस भी लौटने लगे हैं। इसमें कोई शक नहीं कि यह बीमारी वास्तव में विकराल रूप में सभी के सामने एक बड़ी चुनौती के रूप में खड़ी है और जरा सी चूक बहुत बड़ी समस्या का कारण बन सकती है। इसलिए सभी नागरिकों को सरकार द्वारा निरंतर बताए जा रहे हैं दिशा-निर्देशों का ईमानदारी से पालन करना होगा। इस बीमारी की भयावहता का सबसे बड़ा कारण यह है कि अभी तक इसके लिए कोई वैक्सीन उपलब्ध नहीं है।


जो लोग ठीक हो रहे हैं उनमें इस बीमारी से लड़ने की रोग प्रतिरोधक क्षमता स्वयं ही विकसित हो रही है। साथ ही पूरा विश्व आज इसकी वैक्सीन तैयार करने में जुटा है। इस बीमारी का एक और बेहतर पक्ष है कि इसके वायरस हवा में विचरण नहीं करते। यह Droplet infection यानी किसी संक्रमित व्यक्ति के खांसने आदि से निकलने वाली अति सूक्ष्म बूंदों के द्वारा यह किसी अन्य व्यक्ति को संक्रमित करता है। इस कारण सरकार एडवाइजरी जारी करके निरंतर लोगों से, आपसी दूरी बनाने को कह रही है और जिसका सबसे बड़ा प्रयास आज “जनता कर्फ्यू” के द्वारा किया गया है।

कुछ और सकारात्मक बातों में, जैसा कि यह माना जा रहा है कि, यह संक्रमण चीन से शुरू हुआ और उसके बाद इसने पूरे विश्व को अपनी चपेट में ले लिया, तो मिल रही खबरों के द्वारा यह बात निकल रही है कि बीते 3 दिनों से चीन में नए कोरोना रोगी की पुष्टि नहीं हुई है, साथ ही वहां पर मृतकों की संख्या की तीव्र गति में भी कमी आ रही है। इसी प्रकार अमेरिका ने भी इसे नियंत्रण में करने के लिए वहाँ किए गए उपायों को सकारात्मक बताया है।

अंत में एक बार फिर आप सभी से कोविड-19 के खिलाफ हुए शंखनाद में एकजुटता की अपील हुए समवेत स्वर में उदघोष का आवाहन करता हूं,

We will win

जय हिन्द