घायल प्रदर्शनकारियों से मिलने आज आजमगढ़ जाएंगी प्रियंका गांधी

Web Journalism course

समाजवादी पार्टी (सपा) के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव के गढ़ आजमगढ़ में आज कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा जाएंगी. वह नागरिकता संशोधन कानून (सीएए) के खिलाफ रैली में पुलिस पिटाई में घायल प्रदर्शनकारियों से मुलाकात करेंगी. माना जा रहा है कि कांग्रेस अब अखिलेश यादव के गढ़ में सियासी सेंधमारी की कोशिश कर रही है. प्रियंका दो दिन पहले प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी गई थीं.

दिल्ली के शाहीन बाग की ही तरह आजमगढ़ के मौलाना जौहर पार्क बिलरियागंज में सीएए के खिलाफ धरना-प्रदर्शन चल रहा था. बीते दिनों आंदोलनकारियों को पुलिस ने खदेड़ दिया था. इसके साथ ही कई प्रदर्शनकारियों पर मुकदमे दर्ज किए गए थे और कई को जेल में बंद कर दिया. कांग्रेस के स्थानीय नेताओं ने जेल में बंद प्रदर्शनकारियों से भी मुलाकात की थी. अब इन प्रदर्शनकारियों से मिलने आज प्रियंका पहुंचेंगी.

NHRC में UP पुलिस की शिकायत

प्रदर्शनकारियों पर पुलिस बर्बरता के खिलाफ प्रियंका गांधी वाड्रा बीते दिनों राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग (एनएचआरसी) पहुंची थीं. इस शिकायत पर एनएचआरसी ने उत्तर प्रदेश के मुख्य सचिव और पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) को एक नोटिस जारी किया था. प्रियंका ने यूपी पुलिस पर प्रदर्शन के दौरान कथित तौर पर अत्याचार का आरोप लगाया था. आयोग ने यूपी सरकार को नोटिस का जवाब देने के लिए छह हफ्ते का समय दिया है.

यह भी पढ़े: पूर्वांचल एक्सप्रेस-वे बनेगा पूर्वी यूपी की लाइफ लाइन: CM योगी आदित्यनाथ

रविदास जयंती पर वाराणसी पहुंचीं प्रियंका

प्रियंका गांधी दो दिन पहले पीएम नरेंद्र मोदी के संसदीय क्षेत्र वाराणसी पहुंची थीं. प्रियंका ने रविवार को संत शिरोमणि रविदास जयंती पर उनकी जन्मस्थली सीर गोवर्धनपुर पहुंचकर मत्था टेका और आशीर्वाद लिया. प्रियंका ने अमृतवाणी पर माला चढ़ाने के बाद प्रसाद ग्रहण किया. प्रियंका गांधी देश-विदेश के कोने-कोने से आए लाखों श्रद्घालुओं के बीच सत-संगत में रहीं और संगत में अपने विचार रखे थे.

अखिलेश के लापता होने के पोस्टर

आजमगढ़ में अखिलेश यादव के खिलाफ लापता होने के पोस्टर लगाए थे. कांग्रेस के अल्पसंख्यक विभाग की ओर से चस्पा किए गए पोस्टर में सीएए और एनआरसी विरोधी प्रदर्शन में मुस्लिम महिलाओं के साथ पुलिस बर्बरता को लेकर अखिलेश की चुप्पी पर सवाल उठाया गया था. उलेमा काउंसिल ने अखिलेश यादव को ट्विटर वाला नेता बताया था.

loading...