मोदी सरकार का मिडिल क्‍लास को जल्द दे सकती है बड़ा तोहफा

Web Journalism course

केंद्र की नरेंद्र मोदी सरकार मिडिल क्‍लास को एक बड़ा तोहफा देने की तैयारी में है. दरअसल, सरकार अब मिडिल क्‍लास के लिए स्वास्थ्य व्यवस्था तैयार करने पर विचार कर रही है.

यह व्यवस्था उन लोगों के लिए होगी जो अबतक किसी पब्‍लिक हेल्‍थकेयर सिस्‍टम के दायरे में नहीं आते हैं. न्‍यूज एजेंसी पीटीआई के मुताबिक नीति आयोग ने इसका ड्राफ्ट तैयार कर लिया है. इस नई स्वास्थ्य प्रणाली में उनको शामिल नहीं किया जाएगा जो आयुष्मान भारत योजना के दायरे में हैं. बता दें कि आयुष्मान भारत योजना का लाभ उन गरीब लोगों को मिलता है जो खुद कोई स्वास्थ्य बीमा योजना लेने की स्थिति में नहीं हैं.

नीति आयोग के सलाहकार (स्वास्थ्य) आलोक कुमार ने कहा, ‘‘करीब 50 फीसदी आबादी अभी भी किसी सार्वजनिक स्वास्थ्य व्यवस्था से जुड़ी नहीं है. ऐसे लोगों के लिए उनसे मामूली राशि लेकर ऐसी प्रणाली तैयार करने का विचार है जो मिडिल क्‍लास की स्वास्थ्य देखभाल जरूरतों को पूरा कर सके.’’ 

आलोक कुमार ने आगे कहा कि मध्यम वर्ग में आने वाले लोगों को अगर देश में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा व्यवस्था के निर्माण के लिए  200 या 300 रुपये देने पड़ते हैं, तो उन्हें कोई समस्या नहीं होगी. यह योजना व्यवहारिक लग रही है.

बता दें कि प्रधानमंत्री जन आरोग्य योजना (आयुष्मान भारत) के तहत कुल आबादी का 40 फीसदी हिस्‍सा कवर होता है. यह योजना गरीबों के लिए है और इस योजना में 5 लाख रुपये तक का बीमा मिलता है.  हालांकि मिडिल क्‍लास के लिए सरकार की ऐसी कोई योजना नहीं है.ऐसे में यह पहली बार होगा जब मिडिल क्‍लास पब्‍लिक हेल्‍थकेयर कवर का फायदा उठा सकेगा.