अयोध्या पर फैसले के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में हाई अलर्ट

Web Journalism course

राम मंदिर पर सुप्रीम कोर्ट का ऐतिहासिक फैसला आने के बाद पूरे उत्तर प्रदेश में सतर्कता और बढ़ा दी गई है। खासकर रामनगरी अयोध्या और आसपास के जिलों में विशेष सतर्कता बरती जा रही है। रात से ही पुलिस और प्रशासनिक अफसर सक्रिय हो गए थे। होटल, चौराहों, बस अड्डों, रेलवे स्टेशनों समेत संवेदनशील इलाकों में चेकिंग और सतर्कता बढ़ा दी गई थी। फैसला आने से पहले ही मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ लखनऊ स्थित डायल 100 के दफ्तर पहुंच गए और सुरक्षा-व्यवस्था का जायजा लिया।

अब पूरे उत्तर प्रदेश में संवेदनशील इलाकों पर खास नजर रखी जा रही है। पैरा मिलिट्री फोर्स की गश्त बढ़ा दी गई है। सोशल मीडिया पर भी निगरानी और बढ़ा दी गई है। अलीगढ़ में सुरक्षा व कानून-व्यवस्था के देखते हुए डीएम चंद्रभूषण सिंह ने जिले भर में इंटरनेट सेवाएं फिर से बंद करने के आदेश दिए हैं। यह आदेश रविवार दोपहर दो बजे तक जारी रहेगा। इससे पहले सुबह डीएम ने यह आदेश वापस ले लिया था। अलीगढ़ के संवेदनशील इलाकों में सतर्कता बढ़ा दी गई है। मुरादाबाद में फैसले के बाद पुलिस का पहरा बढ़ गया। सार्वजनिक स्थानों के अलावा रेलवे स्टेशन, बस स्टैंड पर सशस्त्र पुलिसबल को तैनात किया गया है।

सोनभद्र की सीमाएं मध्य प्रदेश, बिहार, झारखंड और छत्तीसगढ़ से सटी हैं। ऐसे में यहां अतिरिक्त सुरक्षा के इंतजाम किए गए हैं। वहां बैरियर लगाकर सघन जांच की जा रही है। गोरखपुर में अयोध्या पर फैसले से पहले वाट्सएप ग्रुप पर विवादित ऑडियो डालना एक ग्रुप एडमिन को महंगा पड़ गया। साइबर टीम की पहल के बाद सहजनवां पुलिस ने शकील अहमद उर्फ छोटानी को गिरफ्तार कर लिया है। वहीं बांदा में गलत टिप्पणी करने पर पुलिस ने दो लोगों के खिलाफ आइटी एक्ट के तहत मुकदमा दर्ज किया है।

नोएडा में अफवाह फैलाने के आरोप में दो गिरफ्तार

सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद शहर में माहौल खराब करने के लिए अफवाह फैलाने के आरोप में नोएडा में नव निर्माण सेना के अध्यक्ष अमित जानी व एक युवक हेमंत चौधरी को गिरफ्तार किया गया है। दोनों को पुलिस ने जेल भेज दिया है। एसएसपी वैभव कृष्ण ने बताया कि अमित जानी को सतर्कतावश गिरफ्तार किया गया है, जबकि हेमंत चौधरी ने डायल 100 पर फोन करके अफवाह फैलाई थी।