महिलाओं की इन 7 समस्याओं से छुटकारा दिलाता है कच्चा पपीता

Web Journalism course

फलों का व्यक्ति के स्वास्थ्य से गहरा नाता होता हैं। शरीर के सभी पोषक तत्वों की कमी को फलों की मदद से दूर किया जा सकता हैं। ऐसा ही के फल हैं पपीता (Papaya Benefits) जो कि अपने प्रोटीन, पोटैशियम, फाइबर और विटामिन ए जैसे विभिन्न पोषक तत्वों की मदद से व्यक्ति को बिमारियों से दूर रखता हैं। महिलाओं की तो कई समस्याओं का कच्चे पपीते की मदद से आसानी से इलाज किया जा सकता हैं। इसलिए इसे हेल्थ का सुपरहीरो भी कहा जाता हैं। आज हम आपको महिलाओं की उन्हीं समस्याओं की जानकारी देने जा रहे हैं जिनमें उन्हें कच्चे पपीते का सेवन कर स्वस्थ शरीर की चाहत को पूरा किया जाना चाहिए। तो आइये जानते हैं इस जानकारी के बारे में…

यूरिन इंफेक्शन (Urine infection)

महिलाओं को अक्सर यूरिन इंफेक्शन (Urine infection) की समस्या हो जाती है, खासतौर पर गर्मियों में तो ये समस्या कुछ ज्यादा ही परेशान करती हैं। समस्या होने पर यूरिन रुक-रुककर और जलन के साथ आता है, हल्का बुखार रहता है, पेट के निचले हिस्से में दर्द होना और यूरिन से बदबू आना जैसी समस्याएं देखने को मिलती है। लेकिन आपको परेशान होने की जरूर नहीं हैं, क्योंकि कच्चा पपीता इससे राहत दिलाने में बहुत मददगार होता है। यह इंफेक्शन की परेशानी को खत्म करके बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकता है।

डायबिटीज में फायदेमंद

डायबिटीज (Diabetes) के मरीजों के लिए पपीते के साथ-साथ कच्चा पपीता भी किसी वरदान से कम नहीं है। इसे खाने से ब्लड में शुगर की मात्रा होती है और यह इंसुलिन की मात्रा को बढ़ाता है। जी हां विटामिन ए, सी, मैग्नीशियम और पोटेशियम कच्चा पपीते का जूस पीने से डायबिटीज कंट्रोल में रहती है। अगर आपको भी डायबिटीज की समस्या है तो कच्चे पपीते को अपनी डाइट में शमिल करें।

ब्रेस्टफीडिंग में फायदेमंद

ब्रेस्टफीडिंग (Breast Feeding) करवाने वाली महिलाओं के लिए कच्चे पपीता खाना बहुत अच्छा रहता है, क्योंकि ऐसी महिलाओं को पोषक तत्वों की जरूरत ज्यादा होती है। इसके अलावा यह शरीर में सभी एंजाइम की कमी को पूरा करके दूध बढ़ाने में मदद करता है।

वेट लॉस

बढ़ता वजन आजकल की महिलाओं की सबसे बड़ी समस्या है। अगर आपकी भी यही समस्या है और आप बढ़ते वजन को कम करना चाहती हैं तो कच्चे पपीता का सेवन करें। जी हां कच्चे पपीते में फाइबर की मात्रा बहुत ज्यादा होती है। इसलिए इसे खाने से बॉडी में जमा एक्स्ट्रा फैट (Extra Fat) निकल जाता है। इसलिए आप कच्चे पपीते को सलाद के तौर पर खा सकती हैं। ये वेट लॉस (Weight Loss) में तेजी से मदद करता हैं। या आप चाहे तो कच्चे पपीते को कदूकस करके दही के साथ मिलाकर भी खा सकती हैं।

कैंसर से बचाव

कई रिसर्च में पाया गया है कि कच्चे पपीते को रेगुलर खाने से कैंसर (Cancer) का खतरा कम होता है। इसमें मौजूद एंटी-ऑक्सीडेंट, फीटोन्यूट्रिएंट्स और फ्लेवोनॉयड्स पाए जाते हैं, जो शरीर में कैंसर सेल्स को बनने से रोकने का काम करते हैं। जिससे कैंसर का खतरा कम हो सकता है।

इम्यूनिटी को मजबूत बनाएं

कमजोर इम्यूनिटी (Immunity) के कारण हम आसानी से बीमारियों की चपेट में आ जाते हैं। जी हां मौसम में हल्के से बदलाव से ही तुरंत बीमार हो जाते है। लेकिन अगर आप डाइट में कच्चे पपीते को शामिल करती हैं तो आप अपनी इम्यून सिस्टम को मजबूत बना सकती हैं। कच्चे पपीते में विटामिन ए, सी और ई होता है, जो शरीर के इम्यून सिस्टम को मजबूत बनता है। इसमें मौजूद विटामिन सी तनाव को दूर करता है। तनाव दूर हरने से भी आप बीमारियों से दूर रहती हैं।

अर्थराइटिस का दर्द दूर करें

कच्चे पपीते का सेवन जोड़ों के दर्द को दूर करने में भी बहुत फायदेमंद है। कच्चे पपीते में मौजूद एंटीऑक्सीडेंट और एंटी-इंफ्लेमेटरी गुण अर्थराइटिस (Arthritis) के दर्द को दूर करने में मदद करते हैं। इसके लिए आप 2 लीटर पानी उबाल लें। फिर इसमें पपीते को धोकर, बीज निकालकर पानी में 5 मिनट तक उबालें। अब 2 चम्मच ग्रीन टी की पत्तियां डालें और थोड़ी देर तक उबलने दें। अब इसे छानकर बोतल में भर लें। दिनभर इस पानी को पीतें रहें। आपको कुछ दिनों में ही आराम महसूस होने लगेगा।