स्मार्ट LED बचा रही है 3300 करोड़ की बिजली

Web Journalism course

देश में 1 करोड ऐसे खंभे हैं जिन पर पुराने ट्यूबलाइट की जगह स्मार्ट LED लग गए हैं. अब इन खंभों के जरिये हर साल लगभग 3300 करोड़ रुपये की बिजली बचा ली जाएगी. यह मानना है एनर्जी एफिशिएंसी सर्विसेज लिमिटेड (EESL) यानि का. मोदी सरकार ने सड़कों पर बिजली के खंभों पर स्मार्ट LED लगाने की योजना साल 2015 में शुरू की थी.

देश में कुल 1.34 करोड़ स्ट्रीट लाइट हैं, इन सबको बदलने का लक्ष्य रखा गया था और अब तक 1 करोड़ स्ट्रीट लाइट बदली जा चुकी हैं. अब 2.7 लाख किलोमीटर की सड़क पर ये LED रोशनी बिखेर रही हैं. अनुमान है ये स्मार्ट स्ट्रीट लाइट्स हर साल 6.71 अरब किलोवाट बिजली बचा लेंगी और 46 लाख टन की कार्बन डाई  ऑक्साइट को बनने से रोकेंगे.

चुने हुए 1500 शहरों में से 900 में ये LED बल्ब वाले खंभे लग चुके हैं और बाकी 600 में जल्द ही लगने वाले हैं. सबसे ज्यादा आंध्र प्रदेश में 28.9 लाख LED स्ट्रीट लाइट लग चुकी हैं. राजस्थान में 10.3 लाख और यूपी में 9.3 लाख लगाए जा चुके हैं. EESL इन खंभों की निगरानी करता है. जहां-जहां ये स्ट्रीट लाइट लगी हैं वहां की लोकल अथॉरिटी से EESL को रिपोर्ट मिली है कि ये LED स्ट्रीट लाइट पहले के मुकाबले 50% तक बिजली बचा रही हैं.