पीएम मोदी से ममता बनर्जी ने की मुलाकात..

Web Journalism course

दिल्ली में बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी बुधवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से मुलाकात की। इस दौरान ममता बनर्जी ने पीएम मोदी को कुर्ता और मिठाई दिया। इससे पहले दोनों आखिरी बार 25 मई 2018 को शांति निकेतन में विश्व भारती विश्वविद्यालय के दीक्षांत समारोह में मिले थे। ममता बनर्जी को केंद्र सरकार और पीएम मोदी का घोर विरोधी माना जाता है।

लोकसभा चुनाव में यह विरोध चरम पर पहुंच गया था। ममता ने मोदी को पीएम तक मानने से इन्कार कर दिया था। वह उनके शपथ ग्रहण समारोह में भी नहीं गई थी। वहीं पीएम से मुलाकात को लेकर भाजपा ने ममता पर निशाना साधा है।

राजीव कुमार को बचाने के लिए पीएम से मुलाकात

भाजपा के महासचिव कैलाश विजयवर्गीय ने कहा है कि वह कोलकाता के पूर्व पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार को बचाने के लिए पीएम से मिल रहीं है। अगर वह ऐसा नहीं करेंगी तो सारधा चिटफंड घोटाले में राज्य के आधे मंत्री जेल में होंगे।

भाजपा के लिए जीत

मुकुल रॉय ने कहा कि ममता का मोदी से मुलाकात के लिए जाना भाजपा के लिए जीत की तरह है। हालांकि, ममता बनर्जी ने इसे शिष्टाचार भेंट बताया है। उनका कहना है वह पीएम से मुलाकात के दौरान बंगाल के हितों की बात रखेंगी। इसमें राज्य का नाम बदलना, बैंकों का विलय, एयर इंडिया, बीएसएनल जैसे मुद्दे शामिल हैं।

कभी कभार ही दिल्ली जाती हूं

ममता ने साफ किया है कि वह कभी कभार ही दिल्ली जाती हैं। कहा- मैं वहां सिर्फ प्रशासनिक मुद्दों को लेकर जाती हूं। गौरतलब है कि केंद्र सरकार ने पश्चिम बंगाल का नाम बांग्ला करने के राज्य सरकार के प्रस्ताव को मंजूरी देने से मना कर दिया था। केंद्र ने यह करते इस प्रस्ताव को मंजूरी नहीं दी थी कि इस कदम के लिए संविधान संशोधन की आवश्यकता होगी। इसके बाद ममता ने इस मुद्दे पर जुलाई में पीएम को पत्र लिखा था और उनसे जल्द इसपर कदम उठाने को कहा था।