जानें क्यों आती है हिचकी

Web Journalism course
हमारे समाज में हिचकी से कई तथ्य जोड़े गए है। यह नहीं कह सकते है कि वो कहां तक सही है। जैसे आपको हिचकी आ रही है तो कोई याद कर रहा होगा। सोचो कौन याद कर रहा है। सही नाम सोच लेने पर हिचकी रुक जाएगी। इसी तरह किसी को हिचकी चल रही है तो शुभचिंतक साथ वाला एकदम से कोई शॉक करने वाली बात कह देगा, इस मान्यता की वजह से कि अचानक ऐसा कर देने से हिचकी रुक जाएगी।
ये है हिचकी आने के कारण और उपाय:
रोज हम सांस लेते हैं और फेफडों में हवा जाती और वहां से आती रहती है। इसके साथ ही वह पर्दा भी हिलता है जो छाती और पेट के बीच में है। मगर कभी-कभी इस प्रवाह की लय गड़बड़ा जाती है इससे डायफ्रॉम फड़कने लगता है और हिचकी चलती है।
इस फड़कन को काबू करके हवा का प्रवाह सहज करने के कई उपाय हैं। जैसे ठंडा पानी पीना, शकर निगलना, कुछ सेकंड के लिए सांस रोकना, कुचली हुई बर्फ निगलना, कोई थैली फुलाना वगैरह। इनमें से किसी भी एक विधि से हिचकी में आराम मिल जाता है।
जल्दी-जल्दी भोजन निगलने, अधिक मिर्च वाला खाना खाने, शराब पीने आदि से हिचकी आ सकती है। मगर यदि यह किसी भी सामान्य उपाय से न रुक रही हो, तब डॉक्टर से राय कर लेना ही ठीक है।
अगर लगातार हिचकी आ रही हो तो दोनों कानों में उंगली डालकर सांस को थोड़ी देर के लिए रोक लें, हिचकी आना एकदम बंद हो जाएगी।