कब है Hanuman Jayanti 2019, जाने

Web Journalism course

इस बार दो शुभ नक्षत्रों के संयोग से हनुमान जन्मोत्सव का पर्व मनाया जायेगा। हनुमान जयंती 2019 पर गजकेसरी और चित्रा नक्षत्र का योग बन रहा है। वैसे हनुमान जयंती के संदर्भ को लेकर कुछ मतभेद हैं। कुछ स्थानों पर हनुमान जयंती कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी पर मनाई जाती है, और कुछ जगह चैत्र शुक्ल पूर्णिमा पर, जबकि धार्मिक ग्रन्थों में दोनों ही तिथियों का जिक्र आता है।

इसका कारण ये है कि पहली तिथि यानि कार्तिक कृष्ण पक्ष की चतुर्दशी को बजरंग बली का विजय अभिनंदन महोत्सव होता है वहीं चैत्र शुक्ल पूर्णिमा पर उनका जन्मदिवस माना जाता है। कहते हैं कि इस दिन बजरंग बली को चोला चढ़ाने से हर बिगड़ा काम बन जाता है और हनुमान जी की विशेष कृपा होती है।

हनुमान भगवान राम के परम भक्त थे  उनकी माता अंजनि के पुत्र हैं। धर्म ग्रंथों के अनुसार चैत्र मास की पूर्णिमा के दिन भगवान हनुमान का जन्म हुआ था, इसीलिए ये पर्व हनुमान जयंती के रूप में पूरे देश में मनाया जाता है। रामायण की कथा के अनुसार वे श्री राम की पत्नी जानकी के भी अत्यधिक प्रिय हैं । जिन सात मनीषियों को अमरत्व का वरदान प्राप्त है, उनमें बजरंगबली भी शामिल हैं । हनुमान जी का अवतार भगवान राम की सहायता के लिये हुआ था। हनुमानजी के पराक्रम की असंख्य गाथाएं प्रचलित हैं ।