शहीद मेजर चित्रेश बिष्ट पंचतत्‍व में हुए विलीन, नम आंखों से दी विदाई

Web Journalism course

देहरादून। जम्मू के राजौरी में शनिवार को विस्फोट में शहीद मेजर चित्रेश बिष्‍ट का पार्थिव शरीर सोमवार सुबह उनके निवास नेहरू कालोनी देहरादून पहुंचा। फिर यहां से खड़खड़ी श्मशान घाट पहुंचा। यहां पूरे सैन्य सम्मान के साथ शहीद को अंतिम विदाई दी गई। मुखाग्नि शहीद के चचेरे भाई हर्षित ने दी।

अंतिम विदाई के दौरान हर किसी की आंखें नाम थी। बड़ी संख्या में मौजूद लोगों ने मेजर चित्रेश अमर रहे और पाकिस्तान मुर्दाबाद के नारे लगाए। इस दौरान शहीद के बड़े भाई नीरज बिष्ट के अलावा उनके रिश्तेदार मौजूद रहे।

दून के रहने वाले मेजर चित्रेश बिष्ट शनिवार को आइईडी धमाकेमें शहीद हो गए थे। वर्ष 2010 में भारतीय सैन्य अकादमी से पास आउट मेजर बिष्ट सेना की इंजीनियरिंग कोर में तैनात थे। उनके पिता एसएस बिष्ट सेवानिवृत्त पुलिस इंस्पेक्टर हैं। सात मार्च को चित्रेश की  शादी थी और कार्ड भी बंट चुके थे।