क्‍या मोदी सरकार फिर करेगी सर्जिकल स्ट्राइक?

Web Journalism course

जम्मू-कश्मीर के पुलवामा में हुए फिदायीन हमले के बाद केंद्र सरकार पर एक बार फिर से पाकिस्तान स्थित आतंकी कैंपों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव है। 

सरकार कैसे इस हमले के बाद राजनीतिक और कूटनीतिक रूप से माहौल को साधती है और आतंकियों के इस कायकाना हरकत के जवाब में क्या कदम उठाती है?  देश की सुरक्षा रणनीति के लिहाज से आने वाले कुछ दिन बेहद महत्वपूर्ण साबित हो सकते हैं। इस हमले के बाद देश भर में गुस्से का माहौल है और हर कोई पाकिस्तान एवं आतंकियों को सबक सिखाने की मांग कर रहा है।

अब तक की रिपोर्ट्स में इस अटैक में भी सीमा पार में प्रशिक्षित आतंकियों के शामिल होने की बात सामने आ रही है। ऐसे में आम चुनाव से ठीक पहले हुए इस हमले के बाद मोदी सरकार पर एक बार फिर से पाकिस्तान स्थित आतंकी कैंपों के खिलाफ कार्रवाई करने का दबाव होगा।

इस आतंकी हमले को घृणित करार देते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट करते हुए कहा है कि जवानों का बलिदान व्यर्थ नहीं जाएगा। पीएम मोदी ने लिखा कि शहीद जवानों के परिजनों के साथ पूरा देश कंधे से कंधा मिलाकर खड़ा है।