अस्थाना को झटका, भ्रष्टाचार आरोप की जांच जारी रहेगी,आलोक वर्मा ने अग्निशमनपद के निदेशक से दिया इस्तीफा

Web Journalism course
नयी दिल्ली। सीबीआई के विशेष निदेशक राकेश अस्थाना को भ्रष्टाचार के आरोप संबंधी मामले में शुक्रवार को दिल्ली उच्च न्यायालय से तगड़ा झटका लगा। न्यायालय ने इस मामले में श्री अस्थाना के खिलाफ जांच जारी रखने का आदेश दिया है।
न्यायाधीश नजमी वजीरी ने इस संबंध में अपने आदेश में कहा कि श्री अस्थाना के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों के मामले की जांच जारी रहेगी।
गौरतलब है कि विशेष  निदेशक के खिलाफ सीबीआई के पूर्व प्रमुख आलोक वर्मा ने भ्रष्टाचार के मामले में प्राथमिकी दर्ज करने का आदेश दिया था। न्यायालय ने श्री अस्थाना और उप अधीक्षक देवेंद्र कुमार की प्राथमिकी रद्द करने की याचिका भी खारिज कर दी। न्यायमूर्ति वजीरी ने श्री अस्थाना और श्री कुमार के खिलाफ जांच 10 सप्ताह में पूरी करने का आदेश दिया है। उन्होंने कहा कि प्राथमिकी में जिस तरह के आरोप हैं उनकी जांच जरूरी है।
 
उल्लेखनीय है कि उच्चाधिकार प्राप्त चयन समिति ने श्री वर्मा को गुरुवार को सीबीआई के निदेशक पद से हटाकर अग्निशमन विभाग का निदेशक नियुक्त किया था। श्री वर्मा ने इसके बाद पद से इस्तीफा दे दिया है। इससे पहले बुधवार को उच्चतम न्यायालय ने श्री वर्मा को फिर से सीबीआई के निदेशक पद पर बहाल किया था। श्री वर्मा इसी माह सेवानिवृत्त होने वाले हैं।
भारतीय पुलिस सेवा  के वरिष्ठ अधिकारी श्री आलोक वर्मा के केंद्रीय जांच ब्यूरो के निदेशक पद से हटाये जाने के बाद अतिरिक्त निदेशक भारतीय पुलिस सेवा के 1986 बैच के अधिकारी एम नागेश्वर राव ने निदेशक पद का प्रभार संभाल लिया है। सीबीआई की ओर से आज यहां दी गयी जानकारी के अनुसारए श्री राव ने कल रात नौ बजे प्रभार संभाला।