नए साल में कहां निवेश-खर्च फायदेमंद और कहां हर हाल में देना होगा टैक्स, जानिए

Web Journalism course

1. पब्लिक प्रोविडेंट फंड (पीपीएफ) को निवेश के लिए अच्छा विकल्प माना जाता है। पीपीएफ में निवेश से ना सिर्फ टैक्स बेनिफिट्स मिलते हैं, बल्कि यह एक सुरक्षित भविष्य की नींव भी रखता है। पीपीएफ में निवेश, ब्याज दर और मैच्योरिटी पर मिली रकम टैक्स फ्री होती है। पीपीएफ में किया जाने वाला निवेश आयकर की धारा 80C के अंतर्गत टैक्स छूट के दायरे में आता है। इस निवेश पर आप एक वित्त वर्ष के दौरान 1,50,000 रुपये तक की टैक्स छूट का क्लेम कर सकते हैं। इस पर वर्तमान समय में 8 फीसद की दर से ब्याज मिल रहा है।

2. इलाज के दौरान किया जाने वाला खर्च भी टैक्स बचा सकता है इसकी जानकारी भी सिर्फ कम लोगों को ही होती है। इलाज के दौरान किया जाने वाला खर्च 80DDB के अंतर्गत कर छूट के दायरे में होता है। इसके दायरे में माता-पिता, बच्चे और भाई-बहन आते हैं। 

3. फिक्स डिपाजिट टैक्स बचाने के लिए सबसे सस्ता और आसान तरीका होता है और इसकी जानकारी अधिकांश निवेशकों को होती है। इस विकल्प में किया जाने वाला निवेश आयकर की धारा 80C के अंतर्गत टैक्स छूट के दायरे में आता है।