निजी चिकित्सकों ने ओपीडी रखी बंद, ये एक्ट लागू करने की मांग

Web Journalism course

देहरादून । क्लीनिकल एस्टेब्लिशमेंट एक्ट के स्थान पर उत्तराखंड हेल्थकेयर एस्टेब्लिशमेंट एक्ट लागू करने की मांग को लेकर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (आइएमए) की अगुआई में राज्यभर में निजी चिकित्सक, नर्सिग होम व क्लीनिक संचालकों का विरोध जारी है। निजी चिकित्सकों ने रविवार को ओपीडी बंद रखी।

सोमवार को निजी चिकित्सक नए मरीजों की भर्ती रोकने के साथ ही पहले से भर्ती मरीजों को भी छुट्टी दे देंगे। 25 दिसंबर को अस्पतालों में तालाबंदी कर स्वास्थ्य सेवाएं ठप कर दी जाएंगी।

आइएमए की ओर से तैयार मसौदे को मुख्यमंत्री त्रिवेंद्र सिंह रावत को सौंपने के लिए पिछले 15 दिन से समय मागा जा रहा है, लेकिन सचिवालय की ओर से समय नहीं दिया जा रहा है। ऐसे में अब डॉक्टरों के सामने आदोलन के सिवाय दूसरा विकल्प नहीं है।