सर्दियों में कैडल मेनिक्‍योर सेेेे मॉश्चराइज करें स्कीन, जानें तरीका

Web Journalism course

ठंड के मौसम में वातावरण का तापमान बहुत कम हो जाता है, जिसके कारण त्वचा में रूखेपन की समस्या आम बात है। इस दौरान त्वचा को नमी यानी मॉश्चराइजिंग की जरूरत ज्यादा पड़ती है। सर्दियों में अक्सर नमी की कमी के कारण होंठ फटने लगते हैं और हाथ में सफेद दरारें पड़ने लगती हैं। इसके अलावा पैर की एड़ियां भी फटने लगती हैं। इसलिए इस मौसम में आम मेनिक्योर-पेडिक्योर से लाभ नहीं पहुंचता बल्कि एक खास तरह के मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर की जरूरत होती है। ऐसे में आप कैंडल थेरेपी का इस्‍तेमाल कर सकते हैं। आइए आपको बताते हैं कि कैसे करें कैंडल मेनिक्योर।

क्या है कैंडल मेनिक्योर-पैडिक्योर

कैंडल मेनिक्‍योर और पेडिक्‍योर, जैसा कि नाम से ही पता चल रहा है कि ये ट्रीटमेंट कैंडल्‍स (मोमबत्तियों) को गला कर किया जाता है। ये तरीका मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर का नया तरीका है और 100 प्रतिशत तक प्राकृतिक है इसलिए इसके कोई नुकसान नहीं होते हैं। इस ट्रीटमेंट में खास मोमबत्तियों को गलाकर इसका प्रयोग त्वचा को स्क्रब और मसाज करने के लिए प्रयोग किया जाता है। इस ट्रीटमेंट से त्‍वचा से डेड सेल्स निकल जाते हैं त्वचा को नमी मिलती है। सर्दियों के मौसम में ये मेनिक्योर बहुत फायदेमंद होता है, जिससे आपके पैरों और हाथों की त्‍वचा नमी पर्याप्त रहने के कारण फटती नहीं और चमक बरकरार रहती है।

कैसे बनाएं पेडिक्योर के लिए कैंडल्स

इस कैंडल को बनाने में वैक्स के अलावा जोजोबा ऑयल, कोकोआ बटर, विटामिन ई और आवश्‍यक तेलों का इस्तेमाल किया जाता है। ऐसे कैंडल्स बाजार में भी उपलब्ध हैं और आप इन्हें घर पर भी बना सकते हैं। इसके लिए नॉर्मल कैंडल्स को गलाकर इसमें मनपसंद ऑयल्स मिलाएं। कैंडल से मसाज करना त्‍वचा को पोषण, एक्‍सफोलिएट और त्वचा सेल के पुनर्जनन को प्रोत्साहित करने का शानदार तरीका है।

कैसे करें कैंडल मेनिक्योर-पैडिक्योर

कैंडल थेरेपी के दौरान मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर की शुरूआत साधारण तरीके से की जाती है। मेनिक्‍योर-पेडिक्‍योर सबसे पहले नाखूनों को काटा, फाइल, शेपिंग, क्‍यूटकल पर क्रीम लगाना और सफाई करना शामिल है। उसके बाद स्‍पेशल कैंडल जलाकर पिघलाया जाता है। पिघलने के बाद इसके वैक्‍स का इस्तेमाल स्क्रब के रूप में किया जाता है। इससे डेड स्किन निकल जाती है। फिर हॉट टावल रैप से त्वचा को साफ करते हैं। उसके बाद क्रीम बनाने के लिए फिर से कैंडल जलाकर पिघलाया जाता है। इस वैक्‍स से बनी क्रीम का इस्तेमाल अच्‍छे से मॉश्‍चराइज करने के लिए किया जाता है। उसके बाद स्किन ब्राइटनिंग पैक का इस्तेमाल हाथ और पैर के लिए किया जाता है। ये कैंडल थेरेपी आपके हाथ पैरों को अधिक नमी प्रदान करती है।