किन कारणों से तनाव के कारण जोड़ों में होता है दर्द, जानें

Web Journalism course

जोड़ों में या हड्डियों में दर्द होने पर आमतौर पर लोग इसे बढ़ती उम्र का प्रभाव मानते हैं या गठिया और अर्थराइटिस समझ लेते हैं। लेकिन क्या आपको पता है कि मानसिक तनाव के कारण भी आपको जोड़ों में दर्द की समस्या हो सकती है। तनाव न सिर्फ आपके दिमाग की कार्यक्षमता को प्रभावित करता है बल्कि आपके शरीर के अंगों को भी प्रभावित करता है। आइए जानें किन कारणों से तनाव के कारण जोड़ों में दर्द होता है।

शरीर के अंदर सूजन पैदा करने वाली आम समस्‍याओं में सूजन भी एक समस्‍या है। तथ्‍य यह है कि चिंता दीर्घका‍लिक तनाव को बढ़ा देती है, जिससे सूजन का खतरा अधिक होता है।

तनाव, विशेष रूप से पैनिक अटैक, आपके मूवमेंट, बैठने और काम के तरीके को बदल देता है। पैरों को हिलाना या बैठने का अलग तरीका जैसे सामान्‍य मूवमेंट भी बदल जाता है। इसके अलावा तनाव के कारण एक्‍सरसाइज में कमी, टांगों को क्रॉस करके सामान्‍य से ज्‍यादा बैठना, नीचे अधिक झुकना जैसी चीजें खुद के जोड़ों के दर्द का कारण बनता है। 

स्‍वस्‍थ लोग, जिन्‍हें सामान्‍य रूप से जोड़ों में दर्द का अनुभव नहीं भी होता है उन्‍हें भी किसी भी दिन जोड़ों में दर्द परेशान कर सकता है। यह सोने, बैठने के तरीके और एक्‍सरसाइज के स्‍तर आदि के कारण बढ़ता या घटता है। लेकिन जब तनाव ज्‍यादा होता है तो दर्द का अनुभव होने की संभावना ज्‍यादा होती है।