बच्चों के लिए खतरनाक है आयरन की कमी, पीडियाट्रिक ब्लड सेल डिस्ऑर्डर का खतरा

Web Journalism course

पीडीयाट्रिक ब्‍लड सेल डिसऑर्डर बच्चों में ब्लड सेल्स संबंधी समस्या है। ये सफेद रक्‍त कोशिकाओं संबंधित समस्‍या, जो सफेद रक्‍त कोशिकाओं यानी व्हाइट ब्लड सेल्स को ही प्रभावित करती है। व्हाइट ब्लड सेल हमारी इम्यूनिटी यानी रोग प्रतिरोधक क्षमता के लिए जरूरी है। यह विकार तभी होता है जब अस्थि मज्‍जा यानी बोन मैरो बहुत अधिक या बहुत कम मात्रा में सफेद रक्‍त कोशिकाओं का निर्माण करता है। जब शरीर में सफेद रक्‍त कोशिकाओं की कमी हो जाती है तब वह सामान्‍य संक्रमण से भी शरीर को नहीं बचा पाता। जबकि सामान्‍य से अधिक सफेद रक्‍त कोशिकाओं के कारण ल्‍यूकीमिया और कुछ अन्य प्रकार के संक्रमण होने की संभावना हो सकती है।

 

रक्‍त कोशिका संबंधी विकार के लिए सबसे अधिक पारिवारिक कारण जिम्‍मेदार होते हैं। ज्‍यादातर यह समस्‍या मां-बाप से बच्‍चे को होती है। अगर गर्भ के दौरान किसी मां को आयरन की कमी है, तो उसके अंदर लाल और सफेद रक्‍त कोशिकाओं की कमी हो जाती है, इसके कारण आनुवांशिक समस्‍या जैसे कि पॉलीसिथीमिया वीरा (polycythemia vera) हो जाता है।

अगर आपकी रक्‍त कोशिकाओं में किसी भी प्रकार का विकार हो जाये तो इसके कारण – एनीमिया, सिकल सेल एनीमिया जैसी समस्‍या हो सकती है। एनीमिया खून की कमी से होने वाली समस्‍या है। जब शरीर में खून की कमी हो जाती है तब एनीमिया हो जाता है। जबकि सिकल सेल एनीमिया एनीमिया का ही एक प्रकार है जो ज्‍यादातार आनुवांशिक कारणों से होता है। यह बीमारी लाल रक्‍त कोशिकाओं को प्रभावित करती है।