इसरो के पूर्व वैज्ञानिक नांबि नारायणन के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने केरल पुलिस की भूमिका की जांच के दिए आदेश

Web Journalism course

उच्‍चतम न्‍यायालय ने कहा है कि भारतीय अंतरिक्ष अनुसंधान संगठन – इसरो के पूर्व वैज्ञानिक नांबि नारायणन को 1994 के जासूसी मामले में अनावश्‍यक रूप से गिरफ्तार और प्रताड़ित किया गया तथा उन्‍हें मानसिक यातना झेलनी पड़ी। न्‍यायालय ने इस मामले में केरल पुलिस की भूमिका की जांच के आदेश दिये हैं। 

प्रधान न्‍यायाधीश दीपक मिश्र की अध्‍यक्षता में तीन न्‍यायधीशों की खंडपीठ ने 76 वर्षीय श्री नारायणन को 50 लाख रूपये का मुआवजा देने का निर्देश भी दिया। श्री नारायणन को 1994 में जासूसी के मामले में गिरफ्तार किया गया था। 1998 में सर्वोच्‍च न्‍यायालय ने उन्‍हें और अन्‍य को बरी कर दिया था। 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.