बदायूं में संक्रामक रोगों से 11 और लोगों की मौत, इतने लोगों की अब तक हुई मौत

Web Journalism course

उत्तर प्रदेश में आयी भीषण बाढ़ के बाद विभिन्न जिलों में संक्रामक बीमारियों का प्रकोप बढ़़ता ही जा रहा है। सरकार की तरफ से बीमारी को रोकने और मरीजों के उचित इलाज की व्यवस्था की जा रही है, लेकिन संक्रामक रोगों से हो रही मौतों का सिलसिला थमने का नाम नहीं ले रहा है। बदायूं ज़िले में संक्रामक रोगों की चपेट में आकर 11 और लोगों की मौत हो गई है। जिले में इन बीमारियों से मरने वालों की संख्या अब 117 हो गई है।

बदायूं ज़िले में संक्रामक रोगों की चपेट में आकर लोगों की मौतें होने का सिलसिला जारी है। ज़िले के गिधौल, मररई, फरीदपुर, सिकरोड़ी, मुड़िया भांसी, हसनपुर, बरुआ नगला, धूड़मर और दातागंज के भटौली गावं में संक्रामक रोगों के चलते 11 और लोगों की मौत हो गई है। ज़िले में लगातार हो रही मौतों को मुख्यमंत्रीयोगी आदित्यनाथ ने गंभीरता से लिया है और डॉक्टरों की दो टीमें ज़िले में भेजी हैं। ये टीमें गांव-गांव जाकर संक्रामक रोगों के फैलने की जाँच कर बीमार लोगों का उपचार कर रही हैं।

उधर ज़िलाधिकारी दिनेश कुमार सिंह ने खुद मोर्चा सँभालते हुए गांव-गांव जाकर रोगों से बचने के लिए जागरूकता अभियान छेड़ दिया है। डीएम गाँवो में चौपाल लगाकर लोगों से अपील कर रहे हैं कि साफ-सफाई रखें और बीमारियों से बचें।

स्वास्थ्य विभाग का कहना है की करीब बीस लोगों की मौत बुखार मेलरिया और अन्य बीमारी के चलते हुई है। वहीं करीब 3200 लोग अभी इन बीमारियों से पीड़ित हैं। उनका कहना है कि लगभग 2100 लोगों के खूने की जांच के लिए स्लाइड बनाकर लखनऊ भेजी गई है।
अपको बता दें कि सक्रांमक बीमारियों के प्रकोप के चलते बीते दिनों सीएमओ डॉ. आशाराम का स्थानांतरण भी किया जा चुका है। डॉक्टर मंजीत सिंह को जिले का कार्यवाहक सीएमओ बनाया गया है l