इन 5 तरीको से बढ़ाए बच्चों की इम्युनिटी पावर

Web Journalism course

बच्चों के खेलन, कूदने, इधर उधर होने की आदत होती है। ऐसे में वे अक्सर कई तरह के जीवाणु, विषाणु के संपर्क में आते हैं। लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं है कि इनके संपर्क में आने से ही बीमार पड़ जाते हैं। यदि आपके बच्चों की रोग प्रतिरोधकता क्षमता अधिक होगी तो वे वायरल के साथ साथ कई तरह के बीमारियों से बच सकते हैं। इसलिए बच्चों में रोग प्रतिरोधकता क्षमता का बढ़ाया जाना अति आवश्यक है। बच्चों को संतुलित आहार देना इसका सबसे अच्छा उपाय हो सकता है।

रोग प्रतिरोधकता का मजबूत होना आवश्यक है खासकर किसी बच्चे के लिए। क्योंकि बच्चे जल्दी से जल्दी बीमारी के चपेट में आते हैं। जिससे इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होने लगता है। और बच्चे जल्दी जल्दी बीमार होन लगते हैं। ऐसे में आवश्यक हो जाता है कि आप अपने बच्चों के इम्यूनिटी पावर बढ़ाने को ज्यादा महत्व दें इससे संक्रमण, जीवाणु, विषाणु वाले बीमारियों से काफी हद तक बचा जा सकता है। तो चलिए जानते हैं कि बच्चों के इम्यूनिटी पावर को बढ़ाने के लिए किन आदतों का पालन करना आवश्यक है।

  • बच्चों को भरपूर नींद लेने दें- अगर आपके घर में कोई नवजात शिशु है तो उसे ज्यादा जगाकर न रखें, उसे भरपूर सोने दें। क्योंकि नवजात के लिए 18 घंटे की नींद जरूरी होती है। वहीं छोटे बच्चों के लिए 12 से 13 घंटे की नींद आवश्यक है। बच्चों का नींद अगर पूरा न हो तो इम्यूनिटी सिस्टम कमजोर होने लगता है और बच्चे अधिक बीमार पड़ने लगते हैं। कहा भी जाता है कि बच्चों के लिए नींद सबसे बड़ी दवा है।
  • बच्चों को दवा की  अधिकता से बचाएं- कई बार होता है कि आप अपने बच्चों के प्रति अत्यधिक संवेदनशील होने लगते हैं। जब बच्चों को खांसी या जुखाम भी हो जाता है तो आप दवा देकर ठीक करने का प्रयास करते हैं। जो आपके बच्चों के इम्यूनिटी सिस्टम को कमजोर करती हैं। बिना चिकित्सकिय सलाह के कोई भी दवा न दें। ऐसा करना नुकसानदेह हो सकता है। इसके बजाए आप बच्चों के सामान्य खांसी या जुकाम के लिए घरेलू दवा का इस्तेमाल कर सकते हैं।
  • संक्रमण से बचाएंं- इससे बचने के लिए छोटी छोटी चीजों का ध्यान रखें। आप अपने बच्चों को छोटी उम्र से ही साफ सफाई के बारे में बताएँ। अपने बच्चों के चीजों को साफ रखें, साफ कपड़े पहनाएं। और बचपन से ही खाने से पहले हाथ धोने के बारे में बताएँ। इससे आपके बच्चे संक्रमण से बचे रहेंगे।
  • धूम्रपान के धुएं से बचाएं रखें- अक्सर आपने सुना होगा कि धूम्रपान करने वालों से ज्यादा उसके संपर्क में रहने वालों के लिए खतरनाक होता है। धूम्रपान का धुआं फेफड़ों के लिए खतरनाक होता है। धूम्रपान के धुएं में कई तरह के विषैले पदार्थ मौजूद होते हैं। जो शरीर के कई प्रकार के कोशिकाओं को मार देते हैं। यह बच्चों के  इम्यूनिटी सिस्टम के लिए खतरनाक होता है। और इससे रोग प्रतिरोधकता क्षमता प्रभावित भी होती है।
  • बच्चों को संतुलित आहार दें- अपने बच्चों के खान पान का अधिक ख्याल रखें। ध्यान रखें कि आपके बच्चे को सभी प्रकार के  पोषण तत्व मिल पा रहे हैं कि नहीं। कोशिश करें बच्चों को बाहर के खाने की आदत न लगे। घर का पौष्टिक आहार दें। बच्चों को विटामिन युक्त ग्रीन वैजिटेबल दें। बादाम और फलों का अधिक सेवन कराएं। इससे आपके बच्चे संक्रमण से दूर रहेंगे। और रोगों से भी बचे रहेंगे।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

Time limit is exhausted. Please reload the CAPTCHA.